आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

13 September 2016

कांचनार गुगुल के फ़ायदे थायराइड, ट्यूमर के लिए | Kanchnar Gugul Benefits For Thyroid and Tumor

आज मैं बता रहा हूँ आयुर्वेद की महत्वपूर्ण दवाओं में से एक कांचनार गुगुल के फ़ायदे,  इस्तेमाल और बनाने का तरीका के बारे में.

जैसा की इसके नाम से पता चलता है इसका मुख्य घटक कांचनार की छाल और शुद्ध गुगुल है.
कांचनार का पत्ता 

कांचनार गुगुल शरीर की ग्रंथियों में होने वाली असामान्य वृद्धि को दूर करने में बहुत ही प्रभावी है. शरीर में कहीं भी ग्लैंड या ट्यूमर हो, या दूसरी किसी भी ग्लैंड का साइज़ बढ़ जाये, थायराइड, शरीर में कहीं भी गिल्टी या ग्रंथि हो, लिम्फ नोड्स सुजन, साइनस, कैंसर, गर्भाशय में ट्यूमर होना इत्यादि में कांचनार गुगुल के इस्तेमाल से रोग दूर होता है.


इसे भी देखें - वीर्य दोष की आयुर्वेदिक औषधि चन्द्रप्रभा वटी 

कंठमाला, गण्डमाला, फाइलेरिया, अंडकोष वृद्धि, गर्दन के आस पास होने वाली ग्रंथियों की वृद्धि, प्रोस्टेट ग्लैंड वृद्धि जैसे रोगों के लिए असरदार दवा है.

पेट में कहीं भी गाँठ या ट्यूमर होना, नाक के अन्दर गाँठ होना, सिस्ट होना शरीर में कहीं भी, फिस्टुला, अल्सर और त्वचा रोगों में भी इसका इस्तेमाल होता है.

इसे भी देखें- योगराज गुगुल के फ़ायदे  

कांचनार गुगुल के इस्तेमाल से शरीर के विषाक्त बाहर निकल जाते हैं जिस से बीमारी जड़ से ठीक हो जाती है.


थायराइड जैसी आज की कॉमन बीमारी में इसके इस्तेमाल से बहुत फ़ायदा होता है. इसके इस्तेमाल से यह थायराइड को नार्मल कर देता है.

कांचनार गुगुल की मात्रा और सेवन विधि-

2 से 4 गोली तक दिन में 3 बार कांचनार की छाल के काढ़े के साथ लेने से शीघ्र लाभ होता है. रोग और रोगी के अनुसार इसकी मात्रा कम या अधिक करनी चाहिए 

कांचनार गुगुल को कई सारी आयुर्वेदिक कंपनियां बनाती हैं और यह हर जगह आयुर्वेदिक मेडिकल में मिल जाता है.

इसे बनाने का तरीका कुछ इस तरह है- 

कांचनार की छाल 200 ग्राम, हर्रे, बहेड़ा और आंवला प्रत्येक 40 ग्राम, सोंठ, काली मिर्च, पीपल और वरुण की छाल प्रत्येक 20 ग्राम, छोटी इलायची, दालचीनी और तेजपात प्रत्येक 10 ग्राम 

सभी को कूट पीस कर कपड़छन चूर्ण बना लें और इसमें सभी के वज़न के बराबर मतलब 430 ग्राम शुद्ध गुगुल मिलाकर कूट कर घी या एरण्ड तेल की सहायता से 4-4 रत्ती या 500 मिलीग्राम के साइज़ की गोलियां बना कर सुखा कर रख लें. यही कांचनार गुगुल है. 


तो दोस्तों, ये थी कांचनार गुगुल की जानकारी जिसके इस्तेमाल से शरीर में बढ़ने वाले किसी भी ट्यूमर को ठीक कर देता है. ऑनलाइन ख़रीदें निचे दिए लिंक से-


Watch here with English subtitle



(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin