आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

04 October 2016

डेंगू का घरेलु उपचार | Dengue Treatment | Dengue Ka Gharelu Ilaj


जैसा कि हम सभी जानते हैं कि डेंगू बुखार एक तरह के मच्छर से होने वाली बीमारी है जिसमे तेज़ बुख़ार आता है और शरीर में चकत्ते हो जाते हैं खून भी रिस सकता है 

इसमें ठण्ड लग कर तेज़ बुखार आता है और कई तरह के लक्षण भी उत्पन्न हो सकते है 

इसके कारण और लक्षण पर ज्यादा चर्चा न कर आईये जानते हैं इसके घरेलु उपचार के बारे में 

पपीते के पत्तों का रस -

डेंगू में पपीते के पत्तों का रस बहुत ही असरदार है. पपीते का पेड़ हर जगह मिल जाता है, इसके हरे पत्तों का रस निकाल कर 2-2 चम्मच दिन में दो से तिन बार पीना चाहिए 


ताज़ी गिलोय का रस -

गिलोय का रस निकाल कर 2-2 चम्मच दिन में दो तिन बार लेने से डेंगू में बहुत फ़ायदा होता है. ताज़ी गिलोय न मिले तो सुखी गिलोय का काढ़ा बना कर ले सकते हैं

नीम की पत्ती और तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर लेने से भी इसमें फ़ायदा होता है 


डेंगू होने पर खून में प्लेटलेटस की संख्या कम होने लगती है, इसमें पपीते के पत्तों का रस और गिलोय का रस बहुत तेज़ी से असर करता है और प्लेटलेटस की संख्या को नार्मल करता है 


इसे भी देखें - 3 ख़ुराक में मलेरिया ठीक करने का नुस्खा 

गिलोय और पपीते का इस्तेमाल अंग्रेज़ी दवाओं के साथ भी कर सकते हैं. अगर डेंगू के लिए कोई अंग्रेज़ी दवा ले रहे हैं तो भी इसके साथ गिलोय और पपीते का इस्तेमाल कर सकते हैं 

 डेंगू के लिए आयुर्वेदिक औषधियों का इस्तेमाल आयुर्वेदिक डॉक्टर करते हैं. अमृतारिष्ट, गिलोय घन वटी, गोदंती भस्म, गिलोय सत्व, सप्तपर्ण घन वटी वगैरह का इस्तेमाल किया जाता है


तो दोस्तों, ये थे डेंगू के कुछ घरेलु उपचार जिनके इस्तेमाल से इस बीमारी से छूटकारा पाया जा सकता है 


(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin