भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

30 November 2016

गंगाधर चूर्ण दस्त और कोलाइटिस की आयुर्वेदिक दवा



जड़ी बूटियों से बनी दवा गंगाधर चूर्ण दस्त और कोलाइटिस के लिए एक प्रभावी शास्त्रीय आयुर्वेदिक दवा है

गंगाधर चूर्ण कई सारी जड़ी बूटियों के मिश्रण से बनाया जाता है इसमें मोथा, अरालुका, सोंठ, धातकी, लोध्र, बला, बिल्व, मोचरस, पाठा, इन्द्रजौ, कुटज, आम्रबिज, प्रतिविषा और लज्जालु मिलाये जाते हैं


गंगाधर चूर्ण के फ़ायदे- 

गंगाधर चूर्ण ग्राही और संकोचक गुणों से भरपूर है

इसके इस्तेमाल से दस्त में फ़ायदा होता है

कोलाइटिस और अल्सरेटिव कोलाइटिस के लिए यह असरदार दवा है, पेट में जमे आँव को निकाल कर पाचन शक्ति को ठीक कर देता है


गंगाधर चूर्ण का डोज़- 

3 से 6 ग्राम तक मधु या चावल के धोवन के साथ खाना खाने से पहले दिन में दो बार लेना चाहिए. बच्चों को कम मात्रा में देना चाहिए

यह सुरक्षित आयुर्वेदिक दवा है इसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता

डाबर, बैद्यनाथ जैसी कई आयुर्वेदिक कंपनियां इसे बनाती हैं और हमारे देश में यह आयुर्वेदिक मेडिकल में हर जगह मिल जाता है, गंगाधर चूर्ण वृहत के नाम से भी कई आयुर्वेदिक कंपनियां इसे बनाती हैं. ऑनलाइन ख़रीदने के लिए यहाँ क्लिक करें

तो दोस्तों ये थी आज की जानकारी संक्षेप में गंगाधर चूर्ण के बारे में




हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin