आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

14 December 2016

दिव्य यौवनामृत वटी शीघ्रपतन और पुरुष रोगों की आयुर्वेदिक दवा | Divya Yauvanamrit Vati for Premature Ejaculation and Erectile Dysfunction



पतंजलि दिव्य फार्मेसी की बनी यौवनामृत वटी जड़ी बूटियों से बनी स्वर्णयुक्त आयुर्वेदिक दवा है जिसका इस्तेमाल पुरुषों के हर तरह के यौन रोगों में किया जाता है

यौवनामृत वटी पौष्टिक, शक्ति को बढ़ाने वाली और बॉडी को एक्टिव करने वाले गुणों से भरपूर है

हार्ट और दिमाग को मज़बूती देती है, यौन इच्छा और शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाने वाली बेहतरीन कामोद्दीपक और बाजीकारक औषधि है

आईये सबसे पहले एक नज़र डालते हैं इसमें मिलायी जाने वाली जड़ी बूटियों और खनिज लवण पर-

इसमें मिलाया गया है स्वर्ण भस्म, वंग भस्म और इसके अलावा जायफल, शुद्ध कुचला, सफ़ेद मुसली, बबुल गोंद, बला, अकरकरा, शिलाजीत, प्रवाल पिष्टी, जावित्री, शतावर, कौंच बीज और असगंध में पान के रस की भावना देकर बनाया गया है

125 मिलीग्राम की छोटी-छोटी गोलियों का 5 ग्राम का डब्बा मिलता है


दिव्य यौवनामृत वटी के फ़ायदे - 

शरीर की कमज़ोरी को दूर कर शरीर को ताक़त देती है

शीघ्रपतन या Premature Ejaculation और इरेक्टाइल डिसफंक्शन को ठीक करती है

शुक्राणुओं को स्वस्थ बनाती है और इनकी संख्या में वृद्धि करती है

स्वप्नदोष या नाईट फॉल और नपुंसकता में इस से फ़ायदा होता है

शरीर में चुस्ती, फुर्ती लाती है और नवयौवन का एहसास दिलाती है


यौवनामृत वटी का डोज़ और सेवन विधि-

1 से 2 गोली तक दिन में दो बार सुबह शाम मिश्री मिले गर्म दूध के साथ लेना चाहिए भोजन के बाद

पूरी तरह से आयुर्वेदिक दवा है जिसका कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता

पतंजलि स्टोर या आयुर्वेदिक मेडिकल से इसे ख़रीदा जा सकता है, इसे ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं



loading...
(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin