भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

21 February 2017

इसबगोल के फ़ायदे नहीं जानते होंगे आप | Isabgol Psyllium Husk Benefits in Hindi


इसबगोल फसल के रूप में पैदा की जाने वाली ऐसी दवा है जिसका इस्तेमाल हजारों सालों से किया जा रहा है इसके चमत्कारी गुणों के कारण

इसे बड़े पैमाने पर गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और पंजाब में उगाया जाता है, इसका पौधा तनारहित झाड़ीनुमा होता है

इसमें गेंहूँ की बालियों की तरह फूल आते है और नाव की तरह के बीज लगते हैं, इन्ही बीजों से इसकी भूसी निकाली जाती है

इसके बीज और भूसी दोनों का दवा के रूप में इस्तेमाल होता है, पर यहां हम इसके भूसी के इस्तेमाल की बात करेंगे

इसबगोल भूसी को अंग्रेजी में सिलीअम हस्क(Psyllium husk) कहते हैं

अपने आप को तंदुरुस्त रखने के लिए आप हर दिन कई तरह से इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। आमतौर पर इसे कब्जियत में काफी कारगर माना जाता है।

इसबगोल का सबसे ज़्यादा इस्तेमाल पेट के रोगों जैसे कब्ज़ या Constipation में किया जाता है, तो आईये जानते हैं कि किन रोगों में इसका इस्तेमाल कर फ़ायदा ले सकते हैं - 

नयी पुरानी कब्ज़ का दुश्मन है इसबगोल भूसी - 
कब्ज़ दूर करने के लिए पानी में भीगा कर लेना चाहिए. इसे पानी में डुबाने के बाद यह फूल जाता है और एक जेल का निर्माण करता है। यह जेल स्वादहीन और गंधहीन होता है। अपने Laxative गुण और फाइबर से भरपूर होने के कारण यह आंत को साफ करता है और पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है

बवासीर से निजात पाने के लिए - 
इसबगोल में मौजूद लैक्ज़ेटिव गुण नेचुरत बोल मूवमेंट में मददगार होता है। इसमें उच्च मात्रा में घुलनशील व अघुलनशील फाइबर पाया जाता है। इससे यह बवासीर में राहत दिलाता है. बवासीर रोगी को इसका इस्तेमाल रात में सोने पहले करना चाहिए 



पेचिश, डायरिया और दस्त होने पर- 
दही के साथ सफगोल की भूसी मिलाकर खाने से फ़ायदा होता है 

एसिडिटी के लिए - 
यह पेट में एक सुरक्षा कवच तैयार करता है जो डायजेस्टिव एसिड के अत्यधिक स्राव को कम करता है। साथ ही यह पेट में मौजूद एसिड के प्रभाव को निष्क्रय भी करता है. एसिडिटी के लिए इसे भोजन के बाद ठन्डे पानी से लेना चाहिए 

वज़न कम करने या मोटापा दूर करने के लिए- 
इसबगोल फाइबर रिच होता है जिस से मोटापा कम  होने में मदद मिलती है. पेट में जाकर यह फूल जाता है जिस से पेट भर जाता है और खाने की इच्छा कम होती है. भोजन से 2-3 घंटा पहले लेने से वज़न कम होता है, निम्बू का रस मिलाकर भी इसे लिया जा सकता है 

दिल की बीमारीयों से बचने के लिए - 
इसके इस्तेमाल से कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद मिलती है. इसमें नेचुरल हाइग्रोस्कोपिक होती है, इसलिए यह कोलेस्टरोल को एब्जॉर्ब करता है। यह पेट और आंत पर टोक्सिन व तैलीय पदार्थ के अत्याधिक जमाव को रोकता है। साथ ही यह भोजन के फैट को एब्जॉर्ब होने से भी रोकता है।

डायबिटीज कण्ट्रोल करता है- 
इसबगोल में नेचुरल जेलाटिन पदार्थ पाया जाता है जो शरीर में ग्लूकोज का सोखना धीमा करता है। यानी यह ग्लूकोज के सेवन को कम करने के साथ ही मधुमेह को नियंत्रित करता है



स्वप्नदोष के लिए- 
इसबगोल और मिश्री 1-1 चम्मच दूध के साथ सोने से पहले लेने से स्वप्नदोष में फ़ायदा होता है 

शीघ्रपतन और धात गिरने की प्रॉब्लम के लिए  -
इसबगोल, मिश्री और खसखस सभी को बराबर मात्रा में लेने से फ़ायदा होता है 

पेशाब में जलन होने पर- 
1 चम्मच सफगोल और 1 चम्मच चीनी एक ग्लास पानी में घोल कर पिने से पेशाब की जलन दूर होती है 

महिला रोग ल्यूकोरिया के लिए - 
इसबगोल को दूध में उबालकर इसमें मिश्री मिलाकर पिने से सफ़ेद पानी की प्रॉब्लम में बहुत फ़ायदा होता है 

अस्थमा के लिए- 
लम्बे समय तक सुबह शाम इसबगोल का सेवन करने से अस्थमा में फ़ायदा है होता है, कहते हैं 1-2 साल तक यूज़ करने से पुराना अस्थमा भी चला जाता है 

सुखी खांसी के लिए -
1 चम्मच सफगोल भूसी को सुबह आधा ग्लास पानी में भिगो दें और शाम को इस्तेमाल करें, और इसी तरह शाम का भिगोया हुवा सुबह को यूज़ करेंगे तो सुखी खांसी में फ़ायदा होता है 

गैस्ट्रिक अल्सर में -
गर्म दूध में इसबगोल को डालकर पिने से कब्ज़ की वजह से होने वाले गैस्ट्रिक अल्सर में फ़ायदा होता है 

पायरिया होने पर - 
इसबगोल को सिरके में मिलाकर मंजन करने से पायरिया ठीक होता है 

अगर बच्चे गलती से कंकड़-पत्थर या कांच का टुकड़ा निगल जाएँ तो इसबगोल को दूध के साथ देना चाहिए 

आईये अब जानते हैं इसबगोल के कोई साइड इफ़ेक्ट हैं या नहीं?



इसबगोल से कोई गंभीर एलर्जिक रिएक्शन शायद ही कभी होता है। साइड इफैक्ट के मामले में यह काफी सुरक्षित माना जाता है। हां इतना जरूर है कि इसका अत्याधिक सेवन कभी न करें। इसका इस्तेमाल हमेशा पानी में भिगाकर ही करें 

वैसे तो इससे एलर्जिक रिएक्शन नहीं होता है, पर अगर अलर्जी हो जाये तो इस्तेमाल बंद कर दें.

अगर आपको कभी एपेंडिक्स या पेट में ब्लॉकेज की प्रॉब्लम रही हो तो इसका इस्तेमाल न करें 

कोई भी ब्रांडेड कंपनी का इसबगोल इस्तेमाल कर सकते हैं, सिधपुर फैक्ट्री का टेलीफोन ब्रांड इसबगोल Trusted और बहुत पुराना ब्रांड है, बैद्यनाथ या किसी दूसरी कंपनी का भी यूज़ कर सकते हैं. पतंजलि का भी अच्छा है. घर बैठे ऑनलाइन ख़रीदें निचे दिए लिंक से -




हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin