आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

22 February 2017

Phal Ghrit Benefit and Use | फल घृत के फायदे, बाँझपन और मिसकैरेज की आयुर्वेदिक दवा


फल घृत एक आयुर्वेदिक दवा है जिसका नाम आपने सुना होगा, इसका इस्तेमाल से महिला प्रजनन अंगो या Reproductive system के रोग दूर होते हैं और स्वस्थ संतान प्राप्ति में मदद करता है

फल घृत गर्भाशय को ताकत देता है और पीरियड रिलेटेड प्रॉब्लम को दूर करता है, यह बेहद पौष्टिक होता है और शरीर की रुक्षता और कब्ज़ को भी दूर करता है 

गाय के घी में बनायी जाने वाली यह एक आयुर्वेदिक दवा है जो घी की तरह होती पर गुणों से भरपूर 

इसे  गाय का दूध, घी और कई सारी जड़ी-बूटियों के मिश्रण से बनाया जाता है, इसमें मिलाई जाने वाली जड़ी बूटियों के नाम इस प्रकार हैं-

मंजिठ, कुठ, तगर, त्रिफला, बच, हल्दी, दारुहल्दी, जेठीमध, मेदा, यवानी, कटु रोहिणी, क्षीर विदारी, हिंगू, काकोली, असगंध, शतावर और  मिश्री 
आयुर्वेदिक प्रोसेस घृत पाक विधि से इसे बनाया जाता है 

आईये अब जानते हैं फल घृत के फायदे- 



यह गर्भाशय को ताकत देता है और बार-बार होने वाले गर्भपात या मिसकैरेज को रोकता है 

इसके इस्तेमाल से होने वाले बच्चे के विकास में मदद मिलती है, स्वस्थ और बुद्धिमान संतान उत्पन्न होती है 

इसके इस्तेमाल से महिलाओं में होने वाले कमर दर्द, पीठ दर्द, पेडू दर्द इत्यादि दूर होते हैं 
फल घृत इनफर्टिलिटी की प्रॉब्लम को दूर करता है, एग produce नहीं होना या कोई भी प्रॉब्लम हो तो लाभ होता है 

अज्ञात कारणों से होने वाली इनफर्टिलिटी या बाँझपन को दूर करने के लिए फल घृत का इस्तेमाल करना चाहिए 

Menstrual या पीरियड की प्रॉब्लम, Vaginal प्रॉब्लम और फैलोपिन ट्यूब की ब्लॉकेज की प्रॉब्लम में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है 

यह उन महिलाओं के लिए भी उपयोगी है जिन्हें कमज़ोर बच्चे पैदा होते हों 

यह शरीर के अंगो को शक्ति प्रदान करता है और टॉनिक की तरह भी काम करता है 

महिला रोगों के अलावा यह पुरुष रोगों में भी लाभकारी है इसके इस्तेमाल से वीर्य विकार, अनजाने में वीर्य निकल जाना, शुक्राणुओं की संख्या कम होना और यौन दुर्बलता जैसे रोगों में फायदा होता है



फल घृत का डोज़ और इस्तेमाल करने का तरीका - 

1 से 2 चम्मच तक सुबह शाम दूध या गर्म पानी से लेना चाहिए 

इनफर्टिलिटी की प्रॉब्लम दूर करने के लिए इसे कम से कम 3 से 6 महिना तक इस्तेमाल करना चाहिए 

हार्ट के रोग, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल और मोटापा के रोगी को इसका इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिए 

पूरी तरह से सुरक्षित आयुर्वेदिक औषधि है, कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होता है. अपनी बॉडी की कैपेसिटी के मुताबिक लॉन्ग टाइम तक यूज़ कर सकते हैं. घर बैठे ऑनलाइन ख़रीदने के लिए यहाँ क्लिक करें




loading...
(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin