भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

05 March 2017

पतंजलि आरोग्य वटी के फ़ायदे | Patanjali Arogya Vati Benefits & Use


पतंजलि आरोग्य वटी या दिव्य आरोग्य वटी रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity Power) बढ़ाने के लिए एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि है, इसका इस्तेमाल कर आप बीमारियों से बच सकते हैं

यह किसी भी तरह के इन्फेक्शन को रोकने के लिए भी उपयोगी है, आरोग्य वटी के इस्तेमाल से शरीर में खून की कमी, अपच, कब्ज, बुखार, लीवर से संबंधित रोग, पीलिया और मोटापा जैसी बिमारियों फ़ायदा होता है

सबसे पहले जान लेते हैं आरोग्य वटी का कम्पोजीशन - 

इसे गिलोय, नीम और तुलसी के एक्सट्रेक्ट से बनाया जाता है, आरोग्य वटी के 1 टेबलेट में गिलोय का एक्सट्रेक्ट 250mg, नीम का एक्सट्रेक्ट 125mg और तुलसी का एक्सट्रेक्ट 125 mg होता है 

दिखने में तो इसका कम्पोजीशन बहुत ही साधारण लगता है, पर यदि गुणों की बात करें तो गिलोय तो अमृत के सामान गुणकारी है, नीम एक बेहतरीन ब्लड Purifier और नेचुरल एंटी बायोटिक है जबकि तुलसी अपने विशेष गुणों के कारण जानी जाती है 



अगर आरोग्य वटी के गुणों की बात करें तो यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली, सुजन मिटाने वाली, कासहर, श्वासहर, एंटी बैक्टीरियल, एंटी फीवर, लीवर और स्प्लीन को नार्मल करने वाली, चर्मरोगों को दूर करने वाली और खून बढ़ाने वाली दवा है 

इसके इस्तेमाल से कमज़ोर इम्युनिटी पॉवर ठीक होती है, बार-बार होने वाला इन्फेक्शन, सर्दी-जुकाम, बुखार, चर्मरोग, त्रिदोष Imbalance होना इत्यादि दूर होते हैं 

आरोग्य वटी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का सबसे अच्छा उपाय हैं. यह औषधि रोगों से बचाती है और इसके अलावा यह सभी उम्र के लोगो की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए लाभदायक है

आरोग्य वटी में मौजूद जड़ी-बूटियां रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाती हैं जिससे सर्दी, खांसी और पुराने बुखार में राहत मिलती है. खास कर यह सर्दियों के मौसम में ज्यादा फ़ायदेमंद है. 

यह Respiratory Infection से पीड़ित लोगो के लिए भी फ़ायदेमंद दवा है 
स्किन की बीमारियां, खारिश, स्किन इन्फेक्शन, पीप वाले फोड़े-फुंसियों से राहत देने के लिए आरोग्य वटी बहुत ही असरदार है 

आरोग्य वटी लीवर को प्रोटेक्ट करती है और लीवर को सही से काम करने में मदद करती है इसी वजह से पीलिया या जौंडिस जैसी बिमारियों से बचने में मदद करती है. यह आंतो को भी ताकत देती है, पाचन क्रिया सही रखती है जिससे खाना सही से हज़म होता है 



आरोग्य वटी का डोज़ और इस्तेमाल करने का तरीका- 

1 से 2 गोली तक दिन में 2 बार गुनगुने पानी के साथ भोजन के बाद लेना चाहिए, बच्चों को कम मात्रा में देना चाहिए 

आरोग्य वटी का कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है, आरोग्य वटी की जगह पर गिलोय, नीम और तुलसी को उबाल कर भी पी सकते हैं. आरोग्य वटी के 40 ग्राम के पैक की क़ीमत 60 रुपया है. ऑनलाइन ख़रीदने के लिए यहाँ क्लिक करें  




हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin