आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

29 March 2017

Punarnavarishta Review in Hindi | पुनर्नवारिष्ट के गुण और उपयोग - लखैपुर टीवी


पुनर्नवारिष्ट लीवर, किडनी और स्प्लीन के रोगों और शरीर के सुजन को कम करने की जानी-मानी औषधि है, इसके इस्तेमाल से लीवर स्प्लीन बढ़ जाना, जौंडिस, किडनी Failure, ह्रदय रोग, सुजन, खून की कमी, पेट के रोगों के अलावा भी कई दुसरे रोग दूर होते हैं

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है इसका मुख्य घटक पुनर्नवा नाम की जड़ी होती है, जिसे गदहपूर्णा और गदहपोड़वा के नाम से भी जाना जाता है

पुनर्नवारिष्ट के कम्पोजीशन की बात करें तो इसमें सफ़ेद पुनर्नवा, लाल पुनर्नवा, बला, अतिबला, पाठा, वासा, गिलोय, चित्रक, कंटकारी का क्वाथ बनाकर पुराना गुड़ और शहद मिलाकर संधान प्रक्रिया से रिष्ट बनाया जाता है और प्रक्षेप द्रव्य के रूप में नागकेशर, दालचीनी, इलायची, कालीमिर्च, अम्बु और तेजपात मिलाया जाता है, यह रिष्ट या सिरप के रूप में होता है


आईये अब जानते हैं पुनर्नवारिष्ट के फ़ायदे- 

यह लीवर, किडनी, स्प्लीन की बीमारी और शरीर की सुजन को दूर करने की एक बेहतरीन दवा और टॉनिक है

हाथ-पैर की सुजन, चेहरे की सुजन या शरीर में कहीं भी सुजन हो तो इसका इस्तेमाल ज़रूर करना चाहिए

पुनर्नवारिष्ट के इस्तेमाल से बढ़ा हुवा लीवर, बढ़ा हुवा स्प्लीन, पीलिया, हेपेटाइटिस, लीवर सिरोसिस, खून की कमी, पेट दर्द, भूख नहीं लगना, पाचन की प्रॉब्लम जैसे रोग दूर होते हैं

अल्कोहलिक और नॉन अल्कोहलिक फैटी लीवर में इसे आरोग्यवर्धिनी वटी के साथ इस्तेमाल करने से फ़ायदा होता है

किडनी का सही काम नहीं करना, पेशाब की जलन, बार-बार पेशाब होना, पेशाब में अल्बूमिन, क्रिस्टल आना, खून में यूरिक एसिड बढ़ा होना और गठिया में इसका इस्तेमाल करना चाहिए

SGPT और SGOT में भी इसके इस्तेमाल से फायदा होता है, इसके साथ में आरोग्यवर्धिनी वटी लेना चाहिए

इसके अलावा जोड़ों का दर्द, हार्ट कंजेशन में भी दूसरी दवाओं के साथ इस्तेमाल करने से फ़ायदा मिलता है


पुनर्नवारिष्ट की मात्रा और सेवन विधि - 

15 से 30 ML तक आधा कप पानी मिलाकर दिन में 2 से 3 बार तक भोजन के बाद लेना चाहिए, बच्चों को कम मात्रा में 10 ML तक ही देना चाहिए

पूरी तरह से सुरक्षित दवा है लॉन्ग टाइम तक भी यूज़ किया जा सकता है, शुगर रोगी को इसकी जगह पर पुनर्नवादी मंडूर या पुनर्नवा कवाथ का इस्तेमाल करना चाहिए

किडनी ट्रांसप्लांट के बाद भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं, बैद्यनाथ, डाबर, पतंजलि जैसी कई सारी कंपनियों का यह आयुर्वेदिक मेडिकल में मिल जाता है. घर बैठे ऑनलाइन ख़रीदने के लिए यहाँ क्लिक करें.



(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin