भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

03 April 2017

Divya Kayakalp Vati Perfect Treatment of Skin Pigmentation | दिव्य कायाकल्प वटी किल-मुहांसे, चर्मरोग के लिए


पतंजलि की दिव्य कायाकल्प वटी एक आयुर्वेदिक दवा है जो हर तरह के स्किन डिजीज या चर्मरोगों को दूर करने के लिए इस्तेमाल की जाती है. रक्त दुष्टि या खून की ख़राबी को दूर करना और खून साफ़ करना इसका मेन काम है. इसके इस्तेमाल से कील, मुहाँसे, चेहरे की झाईयां, दाग, पुराना दाद, खाज-खुलजी, एक्जिमा, सफ़ेद दाग और सोरायसिस जैसे रोग दूर होते हैं

आईये सबसे पहले जान लेते हैं दिव्य कायाकल्प वटी के कम्पोजीशन को- 

इसे पनवाड़, दारुहल्दी,करंज, आँवला, गिलोय, कुटकी,सत्यानाशी, रस माणिक्य, हल्दी, खैर, नीम, मंजीठ, चिरायता, द्रोनपुष्पि, कत्था और बबूल गोंद के मिश्रण से बनाया गया है
इसमें मिलाई गयी सारी जड़ी-बूटियाँ उत्तम रक्तशोधक हैं और रस माणिक्य एक शास्त्रीय औषधि है जिस हर तरह के स्किन प्रॉब्लम में इस्तेमाल किया जाता है


दिव्य कायाकल्प वटी के फ़ायदे- 

नेचुरल एंटी-बायोटिक, एंटी सेप्टिक और ब्लड Purifier गुणों से भरपूर है

 कायाकल्प वटी के रेगुलर प्रयोग से मुँहासे और दाग-धब्बे भी दूर हो जाते हैं. इसमें मौजूद जड़ी-बूटियां त्वचा की कोशिकाओं को आवश्यक खनिज और विटामिन प्रदान कर के त्वचा का पोषण करती हैं. इस औषधि से हानिकारक और विषैले प्रदार्थ शरीर से बाहर निकलते हैं जिससे खून साफ़ होता हैं और त्वचा साफ़ और चमकदार बनती है.

जीवाणु नाशक गुणों के कारन खाज-खुजली और फोड़े-फुंसी में इसके इस्तेमाल से फ़ायदा होता है

दाद, एक्जिमा, सोरायसिस जैसे रोगों में इसके इस्तेमाल से फ़ायदा होता है. एक्जिमा, सोरायसिस जैसे रोगों में इसके साथ में दूसरी दवाएँ भी ज़रूर लेनी चाहिए
खून साफ़ करने वाली यह एक अच्छी दवा है, खून की ख़राबी से होने वाले हर तरह के रोगों में इसका इस्तेमाल कर फ़ायदा लिया जा सकता है


दिव्य कायाकल्प वटी का डोज़-

2 गोली दिन में 2 बार गुनगुने पानी से लेना चाहिए, बच्चों को कम मात्रा में देना चाहिए
रस माणिक्य मिला होने से लॉन्ग टाइम तक यूज़ नहीं करें, डॉक्टर की सलाह से ले सकते हैं. इसे पतंजलि स्टोर से या फिर ऑनलाइन ख़रीदने के लिए यहाँ क्लिक करें



हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin