आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

22 May 2017

हकलाने या अटक-अटक कर बोलने का घरेलु उपचार | Stammering Home Remedies in Hindi


हकलाना या बोलने में बीच-बीच में अटक जाना कम उम्र के बच्चों में अक्सर देखा जाता है, जो की उम्र बढ़ने के साथ खुद ठीक हो जाता है, अगर ठीक न हो तो इसका उपचार करना चाहिए. कई बार तो बड़े लोगों में भी यह समस्या होती है जिसके लिए उपाय करने से समस्या दूर हो सकती है.  तो आईये जानते हैं इसके लिए कुछ घरेलु उपचार के बारे में -
हकलाना दूर करने के लिए दवाओं के साथ दुसरे उपाय भी करने चाहिए, तब ही इस समस्या से छूटकरा मिल सकता है, तो आईये सबसे पहले जान लेते हैं कुछ टिप्स -


  • अगर आप युवा हैं तो कुछ भी बोलने से पहले रिलैक्स रहिये और आत्मविश्वास के साथ बोलना शुरू करें, और हर बात को वज़न के साथ बोलें. पूरा कॉन्फिडेंस रखें और यह न सोचें कि आप हकलाते हैं और बिलकुल भी घबराएँ नहीं 



  • अपनी बातों का Analysis करें, अगर आप किसी खास शब्द बोलने में हकलाते हैं उसकी जगह पर सेम मीनिंग वाला दूसरा वर्ड बोल सकते हैं 

इसे भी जानिए - बच्चों का बिस्तर गिला करना कैसे दूर करें?

  • आईना(Mirror) के सामने ज़ोर-ज़ोर से बोलें या फिर किताब या स्टोरी पढ़ें, अगर साँस लेने की प्रॉब्लम से हकलाते हैं तो ऐसा करने से लाभ होगा 



  • छाती से साँस लेने की पेट से या पेट पर ध्यान केन्द्रित करते हुवे सांस लें, इस से लाभ हो सकता है. 



ये सब तो हो गए टिप्स, आईये अब जानते हैं कुछ घरेलु प्रयोग - 


  • बादाम(Almond) को देसी गाय का घी में पीसकर पेस्ट बना लें और थोड़ा-थोड़ा कर दिन में तीन चार बार खाएं, इस से हकलाहट दूर होती है 



  • ताज़ा हरा आँवला सुबह-सुबह ख़ाली पेट चबा-चबाकर खाएं, इस से अच्छा लाभ होता है. अगर ताज़ा आँवला न मिल सके तो आँवले के चूर्ण को घी में मिलाकर खाना चाहिए 

इसे पढ़ें- दिमाग तेज़ करने का घरेलु नुस्खा

  • शहद और नमक दोनों को मिक्स कर सुबह-सुबह ज़बान पर लगायें और फिर थोड़ी देर में मुँह साफ़ कर लें, इस से हकलाहट में लाभ होता है 



  • छुहारों(Dry dates) को चबा-चबाकर खाएं और खाने के बाद कुछ समय तक पानी न पियें 



  • ब्राह्मी का तेल को हल्का गुनगुना गर्म कर सर में लगाकर अच्छी तरह से मालिश करें, इस से दीमाग तेज़ होता है, अच्छी नींद आती है और हकलाहट में फ़ायदा होता है 


हकलाहट के लिए आयुर्वेदिक औषधियों की बात करें तो ब्राह्मी वटी, सारस्वत चूर्ण, स्मृतिसागर रस, मेधा वटी, हिमालया मेनटैट हमदर्द जर्नाइड सिरप जैसी दवाएँ आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह से ली जा सकती हैं. तो दोस्तों, ये थी आज की जानकारी हकलाहट दूर करने के कुछ घरेलु उपाय और टिप्स के बारे में.


(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin