आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

03 July 2017

तालिसादी चूर्ण के फ़ायदे | Talisadi Churna Benefits, Usage & Ingredients

talispatradi churnam

इसे तालिसादी चूर्ण, तालिसादी चूर्णम, तालिसादी पाउडर और तालिसपत्रादि चूर्ण के नाम से भी जाना जाता है.

तालिसादी चूर्ण क्लासिकल आयुर्वेदिक मेडिसिन है जो कफ़, खाँसी और सर्दी जुकाम जैसे रोगों में इस्तेमाल की जाती है. इसके अलावा Digestion की प्रॉब्लम, भूख न लगना, अरुचि, पेट फूलना, लंग्स की इन्फेक्शन की वजह से होने वाले पुराने बुखार में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. तो आईये जानते हैं तालिसादी चूर्ण का कम्पोजीशन, फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल - 

तालिसादी चूर्ण जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है इसका मुख्य घटक तालिस पत्र है. इसे बनाने के लिए तालिस पत्र 25 ग्राम, काली मिर्च 50 ग्राम, सोंठ 75 gram, पीपल 100 ग्राम, वंशलोचन या तबाशीर 125 ग्राम, छोटी इलायची और दालचीनी प्रत्येक 12 -12 ग्राम और मिश्री 800 ग्राम लेना होता है.

बनाने का तरीका यह है कि मिश्री के अलावा सभी चीज़ों को कूट-पीसकर बारीक चूर्ण बना लें और सबसे लास्ट में मिश्री पीसकर मिक्स कर रख लें, बस तालिसादी चूर्ण तैयार है. आयुर्वेदिक ग्रन्थ चरक संहिता और शारंगधर संहिता में इसका वर्णन मिलता है. 

तालिसादी चूर्ण के गुण- 

यह कफ़ और वात दोष को शांत करता है. इसमें Antitussive, Expectorant, Bronchodilator, Antiviral और Antibacterial जैसे गुण पाए जाते हैं. 

तालिसादी चूर्ण के फ़ायदे - 

तालिसादी चूर्ण दोनों तरह की खाँसी में फ़ायदेमंद है. खाँसी सुखी या बलगमी, इसका इस्तेमाल करना चाहिए. 

इसे भी जानें - सितोपलादि चूर्ण खाँसी की आयुर्वेदिक दवा 

तालिसादी चूर्ण के इस्तेमाल से खाँसी, अस्थमा, इन्फ्लुएंजा, जुकाम, क्रोनिक Bronchitis, कुकरखाँसी या Whooping Cough, स्वसन तंत्र या Respiratory system का इन्फेक्शन,गैस, बदहज़मी, भूख की कमी, IBS जैसे रोगों में फ़ायदा होता है. खाँसी और कफ़ रोगों के लिए यह जानी-मानी आयुर्वेदिक दवा है. 

तालिसादी चूर्ण की मात्रा और सेवन विधि - 

एक से तीन ग्राम तक रोज़ 2-3 बार तक शहद या घी में मिक्स कर लेना चाहिए. या फिर आधा चम्मच घी और एक चम्मच शहद में मिक्स कर भी ले सकते हैं. बच्चे बड़े सभी अपनी ऐज के हिसाब से डोज़ लेकर यूज़ कर सकते हैं. पूरी तरह से सेफ़ दवा है, किसी तरह का कोई साइड इफ़ेक्ट या नुकसान नहीं होता है. बैद्यनाथ, डाबर जैसी कई तरह की कम्पनियों का यह मिल जाता है. सितोपलादि चूर्ण भी इसी की तरह काम करने वाली आयुर्वेदिक दवा है. श्री श्री का तालिसादी चूर्ण ऑनलाइन खरीदिये निचे दिये गए लिंक से -




इसे ज़रूर पढ़िए - 




(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin