आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

16 July 2017

त्रयोदशांग गुग्गुलु, जकड़न और वात रोगों की आयुर्वेदिक दवा | Trayodashang Guggulu Benefits & Usage


त्रयोदशांग गुग्गुल क्लासिकल आयुर्वेदिक मेडिसिन है जो वात रोगों में प्रयोग की  जाती है, इसके इस्तेमाल से जकड़न, जोड़ों का दर्द, गठिया, अर्थराइटिस, कमर दर्द, सर्वाइकल Spondylosis, मसल्स का दर्द, साइटिका, पक्षाघात, लकवा और नर्व से रिलेटेड दर्द दूर होते हैं, तो आईये जानते हैं त्रयोदशांग गुग्गुल का कम्पोजीशन, फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल-

त्रयोदशांग गुग्गुल में शुद्ध गुग्गुल के अलावा कई सारी वात-नाशक जड़ी बूटियों का मिश्रण होता है. इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसमें बबूल की छाल, अश्वगंधा, हाऊबेर, गिलोय, शतावर, गोखुरू, काला निशोथ, रास्ना, सौंफ़, कचूर, अजवाइन और सोंठ सभी को बराबर वज़न में लेकर कूट-पीसकर बारीक चूर्ण बना लिया जाता है और इस चूर्ण के बराबर वज़न में शुद्ध गुग्गुल मिक्स कर इमामदस्ते में ख़ूब कुटाई कर थोड़ा गाय का घी मिक्स कर 500 mg की गोलियाँ बनायी जाती हैं. यही त्रयोदशांग गुग्गुल है. 

त्रयोदशांग गुग्गुल  के गुण - 

यह वातनाशक तो है ही, इसके अलावा सुजन दूर करने वाला(Anti-inflammatory), Anti-arthritic, गठियानाशक(Anti-gout), दर्द निवारक(Analgesic), Muscle Relaxant और एंटी ऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है. 


त्रयोदशांग गुग्गुल के फ़ायदे - 

वात रोगों ख़ासकर जिसमे कमज़ोरी और दर्द के साथ जकड़न हो, में लाभकारी है. 
लकवा, पक्षाघात, साइटिका, नर्व का दर्द, अर्थराइटिस, ओस्टोअर्थराइटिस, गठिया, हड्डी का दर्द, मसल्स का दर्द, कमर दर्द, Osteoporosis जैसे रोगों में आयुर्वेदिक डॉक्टर, दूसरी दवाओं के साथ इसका इस्तेमाल करते हैं. 

हड्डियाँ, जॉइंट्स, मसल्स और नर्व या स्नायु से रिलेटेड रोगों के लिए इस्तेमाल करना चाहिए. 

त्रयोदशांग गुग्गुल की मात्रा और सेवन विधि - 

एक से दो गोली सुबह-शाम वात नाशक औषधियों के साथ या फिर डॉक्टर की सलाह से लेना चाहिए. यह ऑलमोस्ट सेफ़ दवा है, सही डोज़ में लेने से कोई नुकसान नहीं होता है, अधीक डोज़ लेने पर भूख की कमी और पाचन की समस्या हो सकती है. इसे आयुर्वेदिक दवा दुकान से या फिर यहाँ क्लिक कर ऑनलाइन ख़रीद सकते हैं.

इसे भी जानिए - 

सिंहनाद गुग्गुल 
यूरिक एसिड, वातरोग और गठिया की आयुर्वेदिक दवा

हिमालया रुमाल्या 
जोड़ों का दर्द, गठिया, Spondylitis, Arthritis जैसे हर तरह के रोगों की औषधि

औजाई कैप्सूल यूनानी दवा कम्पनी हमदर्द का एक पेटेंट ब्रांड है जो कमर दर्द, घुटनों का दर्द और मांशपेशियों का दर्द या मसल्स पेन जैसे हर तरह के दर्द के लिए एक अच्छी दवा है

साइटिका दूर करे, नर्वस सिस्टम को शक्ति दे 

साइटिका का सफल आयुर्वेदिक नुस्खा 

यहाँ जानिए कष्टकारक रोग साइटिका को दूर करने का आसान सा घरेलु उपाय



(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin