आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

15 October 2017

Herbal Medicine for Cervical Lymphadenitis Cyst Fibroids and Glands | गण्डमाला कण्डन रस के फ़ायदे


गण्डमाला कण्डन रस क्लासिकल आयुर्वेदिक मेडिसिन है जो गण्डमाला को दूर करती है. गले के आस पास हार की तरह होने वाली गिल्टी या ग्लैंड को गण्डमाला कहते हैं. अंग्रेज़ी में इसे सर्वाइकल लिम्फ कहा जाता है, यह सिस्ट और ग्लैंड को भी दूर करता है, तो आईये जानते हैं गण्डमाला कण्डन रस का कम्पोजीशन, फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल - 

गण्डमाला कण्डन रस जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है यह एक रस या रसायन औषधि है जिस पारा, गंधक और दूसरी जड़ी-बूटियों के मिश्रण से बनाया जाता है. इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसमें-

शुद्ध पारा - 12 gram 

शुद्ध गंधक - 6 gram 

ताम्र भस्म - 6 gram 

मंडूर भस्म - 36 gram

सोंठ - 72 gram

मिर्च - 72 gram

पिप्पली - 72 gram

सेंधा नमक - 6 gram

कांचनार की छाल - 144 gram

शुद्ध गुग्गुल - 144 gram

गाय का घी -  ज़रूरत के हिसाब से 

बनाने का तरीका यह होता है कि सबसे पहले शुद्ध पारा और शुद्ध गंधक को खरल में डालकर कज्जली बनायें उसके बाद दूसरी जड़ी-बूटियों का बारीक चूर्ण मिक्स कर खरल करें. सबसे आख़िर में शुद्ध गुग्गुल मिक्स कर इमामदस्ते में कुटाई करें थोड़ा घी मिलाकर. इसके बाद दो-दो रत्ती या 250 mg की गोलियाँ बनाकर सुखाकर रख लें. बस यही गण्डमाला कण्डन रस है. 


गण्डमाला कण्डन रस के गुण

यह वात और कफ़ दोष नाशक है, तासीर में थोड़ा गर्म. हर तरह की ग्लैंड, सिस्ट और ग्रंथि को दूर करने वाले गुणों से भरपूर होता है. 

गण्डमाला कण्डन रस के फ़ायदे - 

इसे ख़ासकर गण्डमाला के लिए इस्तेमाल किया जाता है. Cervical Lymph, ग्लैंड, सिस्ट, गाँठ, गिल्टी, कंठमाला या Goiter, Thyroid, Fibroid जैसी बीमारियों में असरदार है. 


गण्डमाला कण्डन रस की मात्रा और सेवन विधि - 

एक से दो गोली या 250 से 500 mg सुबह शाम खाना खाने के बाद लेना चाहिए. इसे तीस-चालीस दिनों से ज्यादा लगातार इस्तेमाल न करें. इसे आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह से ही लेना चाहिए. बीमारी और रोगी की कंडीशन के हिसाब से सही डोज़ होना चाहिए, ज़्यादा डोज़ होने से नुकसान हो सकता है. 

गण्डमाला कण्डन रस का इस्तेमाल करते हुवे दूध, घी, मक्खन, मलाई और हैवी फ़ूड का इस्तेमाल करना चाहीये. इसे सिर्फ़ कुछ आयुर्वेदिक कम्पनियां ही बनाती हैं जैसे धूतपापेश्वर लिमिटेड, संजीविका और रसाश्रम फार्मा वगैरह. 


 इसे भी जानिए - 






(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin