भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

19 November 2017

Shivlingi Seed Benefits | शिवलिंगी बीज के फ़ायदे, बेटा पैदा करने की चमत्कारी बूटी


शिवलिंगी बीज एक तरह के फल का बीज होता है, शिव जी के लिंग की तरह दिखने के कारन इसे शिवलिंगी कहा जाता है. 

इसका वैज्ञानिक नाम ब्रायोनिया लैसीनिओसा(Bryonia Laciniosa) है. यह एक गर्भाशय टॉनिक है जिसे महिला बाँझपन के उपचार के लिए इसे अकेले या दूसरी दवाओं के साथ इस्तेमाल किया जाता है. यह पुरुषों की यौन क्षमता बढ़ाने और वीर्यविकार के लिए भी फ़ायदेमंद है.

इसके गुणों की बात करें तो यह कफ़ दोष नाशक, दर्द-सुजन नाशक, एंटी फीवर और एंटी फंगल जैसे कई तरह के गुणों से भरपूर होता है. 


शिवलिंगी बीज के फ़ायदे - 

शिवलिंगी बीज को ख़ासकर महिला बाँझपन के लिए ही प्रयोग किया जाता है. किसी भी कारण से अगर गर्भधारण नहीं हो रहा हो तो शिवलिंगी का बीज गर्भधारण में मदद करता है. 

शिवलिंगी बीज न सिर्फ फीमेल इनफर्टिलिटी को दूर कर गर्भधारण में मदद करता है बल्कि यह भी माना जाता है कि अगर एक खास तरीके से इसका इस्तेमाल किया जाये तो पुत्र प्राप्ति होती है या लड़का पैदा होता है. तरह-तरह के प्रयोग के बारे में चर्चा न कर आईये जानते हैं कि गर्भधारण और पुत्र प्राप्ति के लिए इसका इस्तेमाल कैसे करें?

पीरियड ख़त्म होते ही शिवलिंगी के पाँच दाने लेकर सुबह-सुबह ख़ाली पेट पानी के साथ इसे निगल लेना चाहिए सिर्फ सात दिनों तक. ध्यान रहे कि इसके बीज दाँतों को टच न करें. इसे निगलने के बाद अगर उल्टी नहीं होती है तो गर्भधारण और पुत्र प्राप्ति की सम्भावना बहुत ज़्यादा होती है. 


यह एक तरह का टोटका वाला प्रयोग है जिसे आधुनिक विज्ञान नहीं मानता है पर, इसे एक-दो बार ट्राई करने में कोई हर्ज नहीं. यहाँ एक बात बता देना चाहूँगा कि अगर पीरियड और गर्भाशय की प्रॉब्लम हो तो उसका कम्पलीट ट्रीटमेंट ज़रूर लें और साथ में इस प्रयोग को भी ट्राई करें. 



तो दोस्तों, अगर पुत्र प्राप्ति या लड़का चाहते हैं तो इसे ज़रूर ट्राई करें और जैसा रिजल्ट रहे कमेंट कर हमें बताएं. शिवलिंगी बीज ऑनलाइन ख़रीदें निचे दिए लिंक से- 


इसे भी जानिए - 




हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin