भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

21 February 2018

वैद्य जी की डायरी #1- मुहाँसों के लिए आयुर्वेदिक योग


मुहाँसों को आयुर्वेद में यौवनपीड़िका कहते हैं और आज जो योग बता रहा हूँ उसका नाम है- 

यौवनपीड़िकान्तक लेप - 

लाल चन्दन, मंजीठ, माल कांगनी, लोध्र, सेमल के काँटे, जायफल और वट की जटा प्रत्येक 50-50 ग्राम, चिरौंजी और पीली सरसों 100-100 ग्राम, सुहागे का फूला या टंकण भस्म 10 ग्राम

सभी जड़ी-बूटियों का बारीक चूर्ण बनाकर अंत के टंकण भस्म अच्छी तरह से मिक्स कर रख लें. 

प्रयोग विधि - 

दो चम्मच इस चूर्ण को लेकर कच्चा दूध मिक्स कर पेस्ट बना लें और पिम्पल्स पर लेप की तरह लगा दें और सूखने दें. आधा-एक घंटा बाद दूध से भिगाकर इस लेप को हटा दें और ताज़े पानी से धो लें. 

कुछ दिनों तक लगातार इसका इस्तेमाल करते रहने से हर तरह के कील-मुहाँसे दूर हो जाते हैं और चेहरे में निखार भी आता है. बिल्कुल टेस्टेड नुस्खा है, यूज़ कर फ़ायदा उठायें. 

हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin