आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

13 May 2018

Herbal Medicines for Piles & Fistula | बवासीर और भगन्दर की आयुर्वेदिक दवाएँ - वैद्य जी की डायरी - 9


पाइल्स और फिश्चूला के लिए मैं तो कम से कम तीन दवाओं को रीकोमेंड करता हूँ नंबर वन- कंकायण वटी अर्श, नंबर टू- त्रिफला गुग्गुल और नंबर तीन पर आता है- दिव्य अर्शकल्प वटी

पाइल्स और फिश्चूला की बढ़ी हुयी कंडीशन में भी अगर तीनों को दो-दो टेबलेट सुबह शाम छाछ के साथ लिया जाये तो अच्छा रिजल्ट मिलता है. 

ख़ूनी और बादी बवासीर या ब्लीडिंग और नॉन ब्लीडिंग पाइल्स और फिश्चूला इन दवाओं के इस्तेमाल से ठीक हो जाता है. 

पतंजलि के अर्श कल्प वटी की जगह पर आप हिमालया का पाईलेक्स भी यूज़ कर सकते हैं. इन सब के साथ अभ्यारिष्ट या फिर बड़ी हर्रे का चूर्ण  भी लिया जा सकता है. 

इसे भी जानिए -

(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin