आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

11 June 2018

Vat Gajankush Ras Benefits in Hindi | वातगजांकुश रस


वातगजांकुश रस जो है वात रोगों की आयुर्वेद की जानी-मानी औषधि  है जो गठिया, साइटिका, लकवा, Spondylosis और जकड़न जैसे वात रोगों में प्रयोग की जाती है. तो आईये जानते हैं वातगजांकुश रस क्या है? इसका कम्पोजीशन, फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल - 

वातगजांकुश रस यानी हाथी जैसे बड़े वात रोगों पर अंकुश लगाने या कण्ट्रोल करने वाली रसायन औषधि. वात रोगों को आयुर्वेद में हाथी जैसा बड़ा माना गया है जो की सच है. आपने देखा ही होगा कि गठिया या आर्थराइटिस जैसे रोग जल्दी नहीं जाते हैं. 

वातगजांकुश रस का कम्पोजीशन- 

यह हैवी मेटल वाली रसायन औषधि है जिसमे पारा-गंधक के अलावा भस्म और जड़ी-बूटियाँ होती हैं. इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसमें मिला होता है - रस सिन्दूर, लौह भस्म, स्वर्णमाक्षिक भस्म, शुद्ध गंधक, शुद्ध हरताल, हर्रे, काकड़ासिंघी, शुद्ध बच्छनाग, अरनी के जड़ की छाल, सोंठ, काली मिर्च, पीपल और शुद्ध सुहागा या टंकण भस्म सभी बराबर मात्रा में लेना होता है. 

वातगजांकुश रस निर्माण विधि - 

बनाने का तरीका यह होता है कि सबसे पहले रस सिन्दूर, शुद्ध गंधक और दुसरे भस्मों को अच्छी तरह से खरल कर मिक्स करें और उसका बाद जड़ी-बूटियों का बारीक चूर्ण मिक्स कर गोरखमुंडी और निर्गुन्डी के रस में एक-एक दिन घोंटकर 125 mg की गोलियाँ बनाकर सुखाकर रख लें, यही वातगजांकुश रस है. 

वातगजांकुश रस के गुण(Properties)- 

आयुर्वेदानुसार यह वात और कफ़ नाशक है. दर्द-सुजन नाशक, एंटी इंफ्लेमेटरी, Anti-arthritic, Detoxifier और जकड़न दूर करने वाले गुणों से भरपूर होता है. 

वातगजांकुश रस के फ़ायदे - 

गठिया, साइटिका, लकवा, पक्षाघात, Spondylosis और जकड़न वाले ऑलमोस्ट हर तरह के वात रोगों की यह बेहद असरदार दवा है जिसे आयुर्वेदिक डॉक्टर वातरोगों से ग्रसित रोगियों पर इसका सफ़लतापूर्वक प्रयोग कराते हैं. 

आयुर्वेद में इसका बड़ा ही गुणगान किया गया है. और ऐसे भी यह काफ़ी असरदार दवा है अगर सही से इसका इस्तेमाल किया जाये. 

वातगजांकुश रस की मात्रा और सेवन विधि - 

एक-एक गोली सुबह शाम रास्नादी क्वाथ या दशमूल क्वाथ के साथ लेना चाहिए. या फिर डॉक्टर की सलाह के अनुसार उचित अनुपान से. इसे आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह से ही लेना चाहिए, नहीं तो नुकसान भी हो सकता है. 

आयुर्वेदिक कम्पनियों का यह मिल जाता है, इसे ऑनलाइन भी ख़रीद सकते हैं. 


इसे भी जानिए - 








(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin