आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

06 July 2018

Brahmi Vati Memory Booster | ब्राह्मी वटी मेमोरी पॉवर और बुद्धि बढ़ाने की बेजोड़ औषधि


ब्राह्मी वटी मेमोरी पॉवर बढ़ाने और बुद्धि बढ़ाने की बेजोड़ आयुर्वेदिक औषधि है, इसके इस्तेमाल से दिमाग की कमज़ोरी और दिमाग की दूसरी बीमारियाँ दूर होती हैं. तो आईये जानते हैं ब्राह्मी वटी कितने तरह की होती है? इसके फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल - 

ब्राह्मी वटी का नाम तो आपने पहले भी सुना होगा पर बहुत लोगों को यह पता नहीं कि यह तीन तरह की होती है. 

ब्राह्मी वटी न. - 1 (स्वर्णयुक्त)
ब्राह्मी वटी (बुद्धि वर्धक) इसे ब्राह्मी वटी न. 2 के नाम से भी जाना जाता है 
ब्राह्मी वटी(चेचक) 

तीनों का कॉम्बिनेशन अलग-अलग होता है. यहाँ मैं बताने वाला हूँ ब्राह्मी वटी बुद्धिवर्धक या ब्राह्मी वटी न. 2 के बारे में. 

ब्राह्मी वटी(बुद्धि वर्धक) के घटक या कम्पोजीशन - 

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है, इसमें ब्राह्मी नाम की बूटी भी मिली होती है. इसे बनाने के लिए चाहिए होता है - 

छाया में सुखाई हुई ब्राह्मी दो भाग, शंखपुष्पी दो भाग, बच एक भाग, काली मिर्च आधा भाग, गावज़बाँ दो भाग, स्वर्णमाक्षिक भस्म और रस सिन्दूर एक-एक भाग. जटामांसी भी चाहिए भावना देने के लिए. 


ब्राह्मी वटी(बुद्धि वर्धक) निर्माण विधि - 

बनाने का तरीका यह है कि सबसे पहले रस सिन्दूर को खरल करें उसके बाद स्वर्णमाक्षिक भस्म मिक्स कर दूसरी जड़ी-बूटियों का बारीक चूर्ण मिक्स कर जटामांसी के क्वाथ की भावना देकर 250mg की गोलियाँ बनाकर सुखाकर रख लें. यही ब्राह्मी वटी(बुद्धि वर्धक) है, वैसे यह बनी बनायी भी मिल जाती है. 

ब्राह्मी वटी(बुद्धि वर्धक) के फ़ायदे -

यह एक बेहतरीन ब्रेन टॉनिक है, मेमोरी पॉवर बढ़ाने, दिमाग की कमज़ोरी दूर करने और बुद्धि बढ़ाने की यह बेजोड़ दवा है. 

स्टूडेंट्स, टीचर, प्रोफेसर, जज, वकील और दुसरे लोग जिनको दिमागी काम ज़्यादा करना पड़ता है, या फिर जिनको मेंटल वर्क करना पड़ता है, उनके लिए यह एक असरदार और उपयोगी औषधि  है.

नींद की कमी, चिंता, तनाव, स्ट्रेस, बेहोशी, हिस्टीरिया और दुसरे मानसिक रोगों में भी असरदार है. 


ब्राह्मी वटी(बुद्धि वर्धक) की मात्रा और सेवन विधि - 

एक से दो गोली तक सुबह शाम एक चम्मच ब्राह्मी घृत को दूध में मिक्स कर लेना चाहिए. इसे लेते हुवे भोजन के बाद सारस्वतारिष्ट दो स्पून सुबह शाम लेने से अच्छा रिजल्ट मिलता है. यह ऑलमोस्ट सेफ़ दवा है, सही डोज़ में लेने से किसी तरह का कोई नुकसान नहीं होता है. बैद्यनाथ के 80 टेबलेट की क़ीमत 170 रुपया है, इसे आयुर्वेदिक दवा दुकान से या फिर ऑनलाइन ख़रीद सकते हैं. 




इसे भी जानिए - 







(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin