आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

02 July 2018

Shulvarjini Vati | शूलवर्जिनि वटी दर्द की आयुर्वेदिक औषधि


शूलवर्जिनि वटी जो है शास्त्रीय आयुर्वेदिक दवा है जो पेट दर्द और दुसरे कई तरह के दर्द को दूर करती है. इसके इस्तेमाल से से एसिडिटी, गुल्म या पेट में गोला बनना, भूख की कमी, पाइल्स, फिश्चूला और दस्त में फ़ायदा होता है, तो आईये जानते हैं शूलवर्जिनि वटी क्या है? इसका कम्पोजीशन, फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल - 

शूलवर्जिनि वटी जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है शूल यानि दर्द को दूर करने वाली टेबलेट. यह एक तरह की रसायन औषधि है.

शूलवर्जिनि वटी के घटक या कम्पोजीशन - 

रसायन औषधि होने से इसमें शुद्ध पारा, शुद्ध गंधक के अलावा दूसरी जड़ी-बूटियाँ और भस्म भी मिले होते हैं. इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसे बनाने के लिए चाहिए होता है -

शुद्ध पारा, शुद्ध गंधक, लौह भस्म और शंख भस्म प्रत्येक 20-20 ग्राम. शुद्ध सुहागा, शुद्ध हिंग, सोंठ, मिर्च, पीपल, हर्रे, बहेड़ा, आंवला, दालचीनी, तेजपात, तालिशपत्र, जायफल, लौंग, अजवाइन, ज़ीरा और धनियाँ प्रत्येक 10-10 ग्राम.


शूलवर्जिनि वटी निर्माण विधि - 

बनाने का तरीका है कि जड़ी-बूटियों का बारीक कपड़छन चूर्ण कर अलग रख लें, अब शुद्ध पारा और शुद्ध गंधक को खरल में डालकर कज्जली बना लें. इसके बाद जड़ी-बूटियों का चूर्ण मिक्स कर खरल करें और आँवले के रस में तीन दिनों तक घोंटकर 250mg की गोलियां बनाकर सुखाकर रख लें. यही शूलवर्जिनि वटी है, वैसे  यह बनी-बनाई भी मार्केट में मिल जाती है. 

शूलवर्जिनि वटी के गुण -

आयुर्वेदानुसार इस से वात, पित्त और कफ़ तीनों तरह के दोषों में फ़ायदा होता है. यह शूलनाशक, गैसनाशक, पाचक है. इसमें  Anti-colic, Antacid, Digestive aur Anti-pyretic जैसे गुण होते हैं. 


शूलवर्जिनि वटी के फ़ायदे - 

किसी भी वजह से होने वाली पेट दर्द में इसको लेते ही आराम मिलता है. मन्दाग्नि की वजह से होने वाले पेट दर्द, जिसमे हल्का-हल्का दर्द होते रहता है उसके लिए यह बेहद इफेक्टिव दवा है. 

एसिडिटी, गैस, पेट में गोला बनना, खाने में रूचि नहीं होना, बवासीर, भगंदर, दस्त और जोड़ों के दर्द में भी इस से फ़ायदा होता है. 

जहाँ तक मेरा एक्सपीरियंस है, इसे पेट दर्द में ही सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है. 

शूलवर्जिनि वटी की मात्रा और सेवन विधि -

एक से दो गोली तक रोज़ दो से तीन बार तक नार्मल पानी से या फिर आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह से लेना चाहिए. हैवी मेटल वाली दवा है इसे सही डोज़ में डॉक्टर की सलाह से ही लेना चाहिए. बैद्यनाथ के 40 टेबलेट की क़ीमत 71 रुपया है, इसे आयुर्वेदिक दवा दुकान से या फिर ऑनलाइन भी ख़रीद सकते हैं. 





इसे भी जानिए - 










(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin