आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

21 July 2016

जौंडिस या पीलिया का चमत्कारी ईलाज | Get rid from jaundice in 3 days



नमस्कार दोस्तों, हमारी वेबसाइट पर आपका बहुत-बहुत स्वागत है. आज मैं आपको बताने जा रहा हूँ जौंडिस के घरेलू ईलाज के बारे में. ऐसा ईलाज जिस से आप सिर्फ तीन ख़ुराक में जौंडिस से छूटकारा पा सकते हैं.

अगर आपने अब तक हमारी वेबसाइट सब्सक्राइब नहीं किया है तो इसे सब्सक्राइब कर लीजिये ताकि आपको नयी अपडेट मिलती रहे स्वस्थ रहने और बीमारीओं को दूर करने आयुर्वेदिक फार्मूले और घरेलू उपाय के बारे में.

पीलिया या जौंडिस बहुत ही कॉमन बीमारी है जो लीवर से सम्बंधित है.  यह एक प्रकार के वायरस से होती है. शुरू में तो बीमारी का पता नहीं चलता पर कुछ दिनों बाद जब लक्षण प्रकट होते हैं तो बीमारी का पता चलता है.
 पेशाब का रंग पिला होना, बॉडी का रंग पिला होना और आँखें भी पिली हो जाती हैं इस रोग के होने पर. पाचन शक्ति कमज़ोर हो जाती है और  शरीर कमज़ोर होने लगता है. एलोपैथिक दवाओं के साइड इफ़ेक्ट से भी लीवर को नुकसान पहुँचता है और जौंडिस के लक्षण दिखाई देते हैं.

जौंडिस का ईलाज जितना जल्दी किया जाय उतना बेहतर होता है, रोग बढ़ने पर ख़तरनाक हो सकता है. हेपेटाइटिस A, B, C और लीवर सिरोसिस इत्यादि इसके ही दुसरे रूप हैं जिनके जीवन को ख़तरा हो जाता है. जौंडिस के कारण और लक्षण तो आप जानते ही हैं.

आईये अब जानते हैं इसका आसान घरेलू ईलाज -


इसके लिए आपको 'लाल फिटकिरी' लेना है 75 ग्राम. लाल फिटकिरी को आयुर्वेद में  'रक्त स्फटिक ' कहते हैं. यहाँ आपको बता दूं की फिटकिरी दो तरह की होती है. एक सफ़ेद और दूसरी लाल. तो आपको यहाँ लाल फिटकिरी लेना है जो की पंसारी या जड़ी-बूटी बेचने वाले के यहाँ से मिल जाएगी.

75 ग्राम लाल फिटकिरी को खरल में डालकर पाउडर बना लीजिये. खरल न तो हो सिल पर भी पिस सकते हैं या ग्राइंडर में.

पिसने के बाद इसके 3 ख़ुराक बना लीजिये, मतलब हर ख़ुराक 25 ग्राम की होगी.

लाल फिटकिरी (रक्त स्फटिक)


25 ग्राम इस लाल फिटकिरी के पाउडर को 250 ग्राम ताज़ा दही में मिलाकर सुबह-सुबह ख़ाली पेट पी जाना है. इसके पिने के एक घंटा बाद ही कुछ खाएं और पियें. बस तीन दिन ऐसे ही इसका इस्तेमाल कीजिये और जौंडिस में छूटकारा पाईये.

यह एक व्यस्क व्यक्ति की मात्रा है, कम उम्र के लोगों पर सावधानी पूर्वक प्रयोग करें.

जौंडिस होने पर कुछ परहेज़ भी बहुत ज़रूरी है. कोई भी वज़नदार चीज़ न उठायें. तेल और तली हुयी चीज़ों का इस्तेमाल न करें. नमक का इस्तेमाल भी कम से कम करें.

आसानी से पचने वाले तरल पदार्थ का इस्तेमाल करें. नारियल पानी, गन्ने का जूस, मुली, उबली हुयी सब्जी का इस्तेमाल करने से फायदा होता है.

तो दोस्तों आज आपने जाना जौंडिस के आसान से घरेलू ईलाज के बारे में. ऐसी ही दूसरी जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट सब्सक्राइब करना न भूलें. आज की जानकारी अच्छी लगी तो इस पोस्ट को लाइक कीजिये और शेयर कीजिये. इसके बारे में कोई भी सवाल हो तो कमेंट से मुझसे पूछिये, आपके सवालों का स्वागत है.  Thankyou and bye bye.






(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

1 comments:

  1. m bht preshan hun.. body bht tired rehti h and eyes yellow h.. sara khaya pine k bad bhi sari muscules loss ho gya h.. bht weak ho gya hun and maine hastmaithun bht kiya h.. shayad isi vajeh s liver kamjor ho gya mera

    ReplyDelete

 
Blog Widget by LinkWithin