भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

27 August 2019

Herbal Remedy for Uric Acid | यूरिक एसिड की आयुर्वेदिक औषधि - वैद्य जी की डायरी | यूरोक्योर चूर्ण


आज आप सभी की डिमांड पर वैद्य जी की डायरी में यूरिक एसिड को दूर करने वाला योग बताने वाला हूँ. यूरिक एसिड को आप सभी जानते ही हैं. यूरिक एसिड बढ़ने पर दर्द, जोड़ों का दर्द, जोड़ों की सुजन जैसी कई तरह की समस्या हो जाती है. इसके लिए लोग अंग्रेज़ी दवा का सहारा लेते हैं. आयुर्वेद में भी इसका सटीक उपचार है जो पहले ख़ुराक से ही असर दिखाता है, तो आईये इसके बारे में विस्तार से जानते हैं - 

यूरिक एसिड दूर करने वाले योग का नाम मैंने रखा है यूरोक्योर चूर्ण. बढ़े हुए यूरिक एसिड के अनेकों रोगियों पर इसका सफलतापूर्वक परिक्षण करने के बाद आपके सामने इसे प्रस्तुत कर रहा हूँ.

यूरोक्योर चूर्ण के घटक या कम्पोजीशन - 

इसे शांकर योग विशेष और सुरंजान शीरीं के मिश्रण से बनाया जाता है. अब आप सोच रहे होंगे कि शांकर योग विशेष क्या है? यह एक थोड़ा लेंदी योग है इसके बारे में किसी दुसरे विडियो में विस्तार से बताऊंगा. 

यूरोक्योर चूर्ण के गुण - 

इसके गुणों की बात करें इसके मुख्य गुण हैं दर्द नाशक, सुजन नाशक, मूत्रल और यूरिक एसिड नाशक.

यूरोक्योर चूर्ण के फ़ायदे - 

बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम कर नार्मल करना ही इसका मेन फ़ायदा है. 

यूरिक एसिड बढ़ने से होने वाला दर्द, सुजन इत्यादि को दूर करता है.

यह मूत्रल होने से पेशाब को बढ़ाता है और शरीर से यूरिक एसिड को निकाल देता है. 

कुल मिलाकर बस यह समझ लीजिये की यूरिक एसिड को कम करने की यह बेहतरीन आयुर्वेदिक दवा है जो Allopath की तरह साइड इफ़ेक्ट नहीं करती है. 

यूरोक्योर चूर्ण की मात्रा और सेवन विधि - 

एक-एक ग्राम सुबह-दोपहर-शाम दूध के साथ. इसका सेवन करते हुए नॉन वेज और हर तरह की दालों से परहेज़ करना चाहिए. यूरोक्योर चूर्ण अब अवेलेबल है हमारे स्टोर पर 100 ग्राम का पैक सिर्फ 600 रुपया में, जिसका लिंक दिया जा रहा है.




 अगर किन्ही को यूरिक एसिड बढ़ने के कारन समस्या है तो इसका प्रयोग कर लाभ उठायें और मेरा चैनल देखने वाले डॉक्टर्स से अनुरोध है कि अपने रोगियों पर इसका प्रयोग कराकर यश अर्जित करें. 

17 August 2019

Kaharwa Pishtee Benefits | कहरवा पिष्टी के फ़ायदे जानिए


आज की की जानकारी है एक बेहद असरदार औषधि कहरवा पिष्टी के बारे में जो आयुर्वेद के साथ-साथ यूनानी में भी इस्तेमाल की जाती है. इस विडियो में आप जानेंगे कहरवा के गुण, निर्माण और प्रयोग विधि के बारे में विस्तार से - 

कहरवा एक अरबी शब्द है जिसका मतलब होता है विधुत या बिजली. आयुर्वेद में इसे 'तृणकान्तमणि' कहते हैं पर यह कहरवा के नाम से ही प्रचलित है. यह गोंद की तरह का एक पदार्थ है जो बर्मा और दूसरी जगहों की खानों से निकलता है. यह सोने के जैसा पीले रंग का दीखता है. 

कहरवा पिष्टी निर्माण विधि -

 इसके छोटे-छोटे टुकड़े कर चूर्ण बनाकर खरल में डालकर गुलाब जल मिला-मिलाकर दस-पंद्रह दिनों तक खरल कर सुखाकर रख लेना चाहिए. इसका भस्म भी बनाया जाता है पर इसकी पिष्टी ही ज़्यादा गुणकारी होती है. 

कहरवा पिष्टी के गुण - 

इसके गुणों की बात करें तो यह शीतल यानि तासीर में ठंडा, पित्त नाशक, दाह नाशक यानि शरीर की गर्मी और जलन को दूर करने वाला, दिल को ताक़त देने वाला, रक्तनिरोधक यानि ब्लीडिंग रोकने वाला चाहे ब्लीडिंग शरीर के अन्दर से हो या बाहर शरीर में  कहीं से भी हो और व्रण नाशक जैसे कई तरह के गुणों से भरपूर होता है. 

कहरवा पिष्टी के फ़ायदे - 

पित्तज विकारों जैसे रक्तपित्त, अम्लपित्त, उलटी, शरीर की गर्मी, जलन, ज़्यादा प्यास लगना, ज़्यादा पसीना आना, ख़ूनी दस्त, नाक-मुँह या शरीर में कहीं से भी ब्लीडिंग होना, रक्त प्रदर, ख़ूनी  बवासीर इत्यादि में इसका प्रयोग किया जाता है. 

दिल की कमज़ोरी, लिवर, पेट, किडनी की कमज़ोरी इत्यादि में भी दूसरी दवाओं के साथ इसे देना चाहिए.

व्रण नाशक गुण होने से यह हर तरह के ज़ख्म के लिए भी असरदार है. ज़ख्म से मवाद आता हो, बदबू आती हो और यहाँ तक की कीड़े भी पड़ गए हों तो ड्रेसिंग कर इसे पाउडर की तरह छिड़कना चाहिए. 

 अधिकतर लोग समझते हैं कि आयुर्वेद में ज़ख्म के लिए कोई पाउडर नहीं होता, तो समझ लीजिये की कहरवा पिष्टी ज़ख्म के लिए भी बेहतरीन पाउडर है. एंटीबायोटिक वाले अंग्रेज़ी पाउडर से कहीं बेहतर. 

यह एक ऐसी दवा है जिसे खाने के साथ-साथ लगाने में भी प्रयोग कर सकते हैं. उच्च गुणवत्ता वाला विधि पूर्वक बनाया हुआ कहरवा पिष्टी अब अवेलेबल है हमारे स्टोर पर जिसका लिंक दिया गया है-