आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

22 December 2017

शुक्राणुवर्धक 100% सफ़ल आयुर्वेदिक योग | Herbal Formula to Increase Sperm Count & Motility


जैसा कि आप सभी जानते हैं स्पर्म काउंट की कमी मेल इनफर्टिलिटी का एक बड़ा कारन होता है जिसकी वजह से संतान प्राप्ति में समस्या होती है. तो आईये जानते हैं स्पर्म काउंट और मोटिलिटी बढ़ाने वाले असरदार आयुर्वेदिक योग की पूरी डिटेल - 

दोस्तों, मैं जो बताने जा रहा हूँ वह कुछ क्लासिकल आयुर्वेदिक दवाओं का कॉम्बिनेशन है जिसे 'शुक्राणुवर्धक योग' कह सकते हैं.  इसके लिए आपको चाहिए होगा -

अश्वगंधादि चूर्ण - 150 ग्राम 

गोक्षुरादि चूर्ण - 30 ग्राम 

सिद्ध मकरध्वज - 10 ग्राम 

पुष्पधन्वा रस - 10 ग्राम 

प्रवाल पिष्टी - 5 ग्राम, सभी को अच्छी तरह से मिक्स कर खरल करें और बराबर मात्रा की 60 पुड़िया बना लें. जितना ज़्यादा खरल करेंगे उतना ही इफेक्टिव होगा. 
मात्रा- इसे एक-एक पुड़िया सुबह शाम भोजन के बाद खजूर साधित दूध से लेना है. अब आप सोच रहे होंगे कि खजूर साधित दूध क्या होता है? तो आईये बता देता हूँ-


खजूर साधित दूध- 

250 ML दूध में 7-8 दाना खजूर या छुहारा डालें और 100 ML पानी मिक्स कर उबालें. जब दूध आधा बचे तो थोड़ा ठंडा होने पर बताई गयी पुड़िया खाकर ऊपर से यह दूध पीना चाहिए. यही खजूर साधित दूध होता है. 

शुक्राणुवर्धक योग के फ़ायदे- 


स्पर्म काउंट बढ़ाने के लिए यह एक बेहद असरदार फार्मूला है. स्पर्म क्वालिटी, क्वांटिटी और मोटिलिटी को बढ़ाकर संतान प्राप्ति में मदद करता है. 

तरह- तरह की अंग्रेज़ी दवा खाकर थक गए हों तो भी यह नुस्खा अपना असर दिखाता है. यह वीर्य को गाढ़ाकर, शीघ्रपतन और इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्या को भी दूर करता है. 

इस योग को कम से कम लगातार तीन महीने तक यूज़ करना चाहिए. जीरो स्पर्म काउंट वाले भी ट्राई कर सकते हैं. दवा शुरू करने से पहले 'त्रिफला चूर्ण' खाकर पेट साफ़ कर लेना चाहिए. 

दवा का इस्तेमाल करते हुवे हल्का सुपाच्य भोजन करें, खट्टी चीजें, अल्कोहल, फ़ास्ट फ़ूड का इस्तेमाल न करें. 


इसे भी जानिए - 






loading...
(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin