भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

27 August 2019

Herbal Remedy for Uric Acid | यूरिक एसिड की आयुर्वेदिक औषधि - वैद्य जी की डायरी | यूरोक्योर चूर्ण


आज आप सभी की डिमांड पर वैद्य जी की डायरी में यूरिक एसिड को दूर करने वाला योग बताने वाला हूँ. यूरिक एसिड को आप सभी जानते ही हैं. यूरिक एसिड बढ़ने पर दर्द, जोड़ों का दर्द, जोड़ों की सुजन जैसी कई तरह की समस्या हो जाती है. इसके लिए लोग अंग्रेज़ी दवा का सहारा लेते हैं. आयुर्वेद में भी इसका सटीक उपचार है जो पहले ख़ुराक से ही असर दिखाता है, तो आईये इसके बारे में विस्तार से जानते हैं - 

यूरिक एसिड दूर करने वाले योग का नाम मैंने रखा है यूरोक्योर चूर्ण. बढ़े हुए यूरिक एसिड के अनेकों रोगियों पर इसका सफलतापूर्वक परिक्षण करने के बाद आपके सामने इसे प्रस्तुत कर रहा हूँ.

यूरोक्योर चूर्ण के घटक या कम्पोजीशन - 

इसे शांकर योग विशेष और सुरंजान शीरीं के मिश्रण से बनाया जाता है. अब आप सोच रहे होंगे कि शांकर योग विशेष क्या है? यह एक थोड़ा लेंदी योग है इसके बारे में किसी दुसरे विडियो में विस्तार से बताऊंगा. 

यूरोक्योर चूर्ण के गुण - 

इसके गुणों की बात करें इसके मुख्य गुण हैं दर्द नाशक, सुजन नाशक, मूत्रल और यूरिक एसिड नाशक.

यूरोक्योर चूर्ण के फ़ायदे - 

बढ़े हुए यूरिक एसिड को कम कर नार्मल करना ही इसका मेन फ़ायदा है. 

यूरिक एसिड बढ़ने से होने वाला दर्द, सुजन इत्यादि को दूर करता है.

यह मूत्रल होने से पेशाब को बढ़ाता है और शरीर से यूरिक एसिड को निकाल देता है. 

कुल मिलाकर बस यह समझ लीजिये की यूरिक एसिड को कम करने की यह बेहतरीन आयुर्वेदिक दवा है जो Allopath की तरह साइड इफ़ेक्ट नहीं करती है. 

यूरोक्योर चूर्ण की मात्रा और सेवन विधि - 

एक-एक ग्राम सुबह-दोपहर-शाम दूध के साथ. इसका सेवन करते हुए नॉन वेज और हर तरह की दालों से परहेज़ करना चाहिए. यूरोक्योर चूर्ण अब अवेलेबल है हमारे स्टोर पर 100 ग्राम का पैक सिर्फ 600 रुपया में, जिसका लिंक दिया जा रहा है.




 अगर किन्ही को यूरिक एसिड बढ़ने के कारन समस्या है तो इसका प्रयोग कर लाभ उठायें और मेरा चैनल देखने वाले डॉक्टर्स से अनुरोध है कि अपने रोगियों पर इसका प्रयोग कराकर यश अर्जित करें. 

हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin