आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

11 August 2016

जोड़ों के दर्द का उपचार | joron ke dard ka ilaj | Treatment for joint pain



हलो एंड वेलकम दोस्तों,

 आज मैं बताऊंगा जोड़ों के दर्द की  एक बहुत ही असरदार दवा के बारे में जिसके इस्तेमाल से इस से छूटकारा पाया जा सकता है. 

आयुर्वेद के अनुसार जोड़ों का दर्द, गठिया या arthritis एक कष्टसाध्य बीमारी है. इसके दर्द और सुजन से रोगी को बहुत तकलीफ़ होती है. एक तरह से रोगी को यह बिलकुल लाचार कर देता है. 

तो आईये अब जानते हैं इसकी आसान सी दवा के बारे में. इसका नाम हमने रखा है 'सुरंजान वटी'

इसे बनाने के लिए आपको तीन चीज़ें चाहिए -

एलुआ या मुसब्बर 

बड़ी हर्रे छिल्का और 

सुरंजान शीरीं इन तीनों को बराबर मात्रा में लेना है. कम से कम 50-50 ग्राम लीजिये.

सबसे पहले तो बड़ी हर्रे का छिल्का और सुरंजान शीरीं को कूट-पिस कर पाउडर बना लीजिये और फिर एलुआ में मिक्स कर खरल कर लें. इसके बाद 5-500 मिलिग्राम की गोलियाँ बनाकर सुखा कर रख लीजिये. पानी मिलाकर गोली बना सकते हैं या फिर इसका चूर्ण भी इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए सभी को मिलाकर चूर्ण कर रख लें.


इसका इस्तेमाल कैसे करना है?

एक से दो  गोली सुबह-दोपहर-शाम हल्के गर्म पानी से या रास्नादी क्वाथ से लेना चाहिए. 

इस वटी के इस्तेमाल से जोड़ों के दर्द, गठिया, साइटिका, कमरदर्द, जोड़ों की सुजन इत्यादि में फ़ायदा होता है और लगातार प्रयोग से बीमारी ठीक हो जाती है. बड़ा ही कारगर फ़ार्मूला है, इसका इस्तेमाल हमारे यहाँ सालों से किया जा रहा है. इसके इस्तेमाल से कब्ज़ दूर होता है और यूरिक एसिड भी निकल जाता है. 

यहाँ आपको बताना चाहूँगा कि एलुआ या मुसब्बर, बड़ी हर्रे और सुरंजान शीरीं जड़ी-बूटी विक्रेता या पंसारी के यहाँ मिल जायेगा. रास्नादी क्वाथ कई सारी आयुर्वेदिक कम्पनियाँ बनाती हैं. अगर आप सुरंजान वटी नहीं बना सकते तो इसकी जगह पर 'हब्बे सुरंजान' का इस्तेमाल कर सकते हैं. इस से मिलता जुलता ही फ़ार्मूला है. सुरंजान वटी मार्केट में नहीं मिलेगी क्योंकि यह हमारा अनुभूत फ़ार्मूला है. 


तो दोस्तों आपने आज जाना जोड़ों के दर्द या arthritis की आयुर्वेदिक दवा के बारे में.

इसी तरह की दूसरी जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट सब्सक्राइब ज़रूर कीजिये नयी जानकारियों की अपडेट पाने और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले जानने के लिए.


आज की जानकारी अच्छी लगी तो लाइक और शेयर कीजिये ताकि दुसरे लोग भी इसका फ़ायदा उठा सकें. 

Watch here with English Subtitle 

आज की जानकारी के बारे में कोई सवाल हो तो कमेंट के माध्यम से हम से पूछिये. आपके सवालों का, राय और सुझाव का  स्वागत है. किसी भी बीमारी के ईलाज और व्यक्तिगत सलाह मुफ्त पाने के लिए वैद्य जी को मेल कर सकते हैं  info@lakhaipur.com पर.

 आज के लिए इतना ही. आपकी स्वास्थ कामना के साथ इजाज़त चाहूँगा. धन्यवाद् 






(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin