आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

01 October 2016

किडनी प्रॉब्लम के घरेलु उपाय, डायलिसीस को कहें बाय-बाय | Home treatment for kidney | Lakhaipur.com


किडनी की प्रॉब्लम के लिए कुछ घरेलु उपाय जिनका प्रयोग कर किडनी की प्रॉब्लम को दूर किया जा सकता है 

जब पेशाब में यूरिया और क्रिएटीनिन की मात्रा अधिक आने लगती है तो माना जाता है कि किडनी सही से काम नहीं कर रहा और प्रॉब्लम बढ़ने पर किडनी काम करना बंद कर देती है जिसकी वजह से रोगी की मौत भी हो सकती है 

अगर डॉक्टर ने डायलिसीस की सलाह दी हो या डायलिसीस चल रहा हो तो भी इस साधारण से प्रयोग से समस्या दूर हो जाती है और डायलिसीस या किडनी ट्रांसप्लांट की ज़रूरत नहीं रहती

योग नंबर - 1 

ताज़ी नीम गिलोय का रस 50 ML और गेहूँ के ज्वारों का रस 50 ML दोनों को मिलाकर ख़ाली पेट सुबह-सुबह पी जाएँ और एक घंटा तक कुछ न खाएं 


इसका इस्तेमाल कुछ महीनों तक लगातार करना चाहिए, यह योग अमृत के समान गुणकारी है. गेहूँ के ज्वारे का रस कई असाध्य रोगों को दूर करने में प्रभावी है, इस से कैंसर जैसे रोग भी दूर हो सकते हैं. गिलोय या अमृता तो अमृत के समान गुणकारी है ही. 


गेहूँ के बीजों को गमले में डालकर आसानी से इसे उगाया जाता है, जब 3-4 इंच की इसकी घास उग जाये तो इसे पीसकर रस निकालना चाहिए. ध्यान रहे यह पूरी तरह आर्गेनिक हो इसमें रसायनिक खाद का इस्तेमाल न करें

योग नंबर - 2 

गोक्षुर, नीम की छाल और पीपल की छाल तीनों 25-25 ग्राम लेकर मोटा कूट लें और आधा लीटर पानी में उबालें. जब सौ मिलीलीटर बचे तो छान कर रख लें 
गोखुरू 

इस काढ़े को सुबह ख़ाली पेट 50 ML और शाम को 50 ML पीना है 
इसके इस्तेमाल से कुछ ही दिनों में किडनी का फंक्शन सही हो जाता है और क्रिएटीनिन का लेवल नार्मल हो जाता है 

अगर आप पहले से किडनी की कोई दवा ले रहे हैं तो भी उसके साथ इनका प्रयोग कर सकते हैं. धीरे-धीरे नार्मल होने पर अंग्रेज़ी दवाओं को छोड़ सकते हैं 


किडनी की प्रॉब्लम के लिए आयुर्वेदिक दवाएँ बहुत अच्छा काम करती हैं. एक पेटेंट आयुर्वेदिक दवा 'वृक्क्दोषान्तक वटी' है जो किडनी के लिए सबसे बेस्ट दवा है. यह कई शास्त्रीय आयुर्वेदिक औषधियों के कॉम्बिनेशन से बनायी गयी है. 

किडनी की बीमारी कैसी भी हो, यूरिया, क्रिएटीनिन आ रहा हो, पस आ रहा हो, पत्थरी, सिस्ट हो, इन्फेक्शन हो, प्रोस्टेट बढ़ा हुआ हो और यहाँ तक की किडनी काम करना बंद करने वाली हो तो भी इस दवा के इस्तेमाल से फ़ायदा होता है


किडनी का फंक्शन सही नहीं होने पर शरीर में सुजन होने लगती है, इसमें भी यह दवा बेहद असरदार है रोग को जड़ से दूर कर देती है. अनुभूत है कई रोगियों पर सफल पाया है. 

इसे 1 से 2 टेबलेट 2 से तीन बार रोग के अनुसार लेना चाहिए

वृक्क्दोषान्तक वटी की जानकारी डिटेल में मैं जल्द ही दुसरे विडियो में दूंगा


तो दोस्तों, ये थे किडनी की प्रॉब्लम के लिए कुछ घरेलु और आसान से उपाय 
Watch here


(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin