आयुर्वेदिक दवाओं और जड़ी बूटी की जानकारी और बिमारियों को दूर करने के आयुर्वेदिक फ़ार्मूले और घरेलु नुस्खे की जानकारी हम यहाँ आपके लिए प्रस्तुत करते हैं

05 September 2017

Shankh Vati for Peptic disease and Indigestion | पेट दर्द और पाचन सम्बन्धी रोगों की आयुर्वेदिक औषधि


शंख वटी Digestive सिस्टम से रिलेटेड रोगों के लिए एक बेहतरीन दवा है, यह गुल्म, पेट दर्द, अपच, गैस और पेट में जलन जैसे रोगों को दूर करती है, तो आईये जानते हैं इसका कम्पोजीशन, फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल - 

शंख वटी क्लासिकल आयुर्वेदिक मेडिसिन है जो आयुर्वेदिक ग्रन्थ भैषज्यरत्नावली(अग्निमान्ध रोगाधिकार) में वर्णित है. इसका मेन इनग्रीडेंट शंख भस्म है. इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसमें ये सब जड़ी-बूटियाँ और भस्म मिलाये गए हैं - 

शंख भस्म, हिंग, सोंठ, मिर्च, पीपल, इमली क्षार, पञ्चलवण(पाँच तरह के नमक जैसे- सैंधव लवण, सौवर्च लवण, समुद्र लवण, विड लवण, रोमक लवण), शुद्ध पारा, शुद्ध गंधक, शुद्ध बछनाग और जम्बीरी निम्बू का रस. 

सभी के चूर्ण को निम्बू के रस में खरलकर 250 mg की टेबलेट बनाकर सुखाकर रख लिया जाता है. यह वात और पित्त को बैलेंस करती है. 


शंख वटी के फ़ायदे- 

पेट के रोगों और Digestion की प्रॉब्लम की असरदार दवा है. पेट दर्द, गैस, अपच, हाजमा की कमज़ोरी, भूख नहीं लगना, गुल्म, पेट की जलन जैसे रोगों में इसका इस्तेमाल करना चाहिए. अपच की वजह से होने वाले लूज़ मोशन में भी इस से फ़ायदा होता है. 


शंख वटी का डोज़- 

एक से दो गोली रोज़ तीन बार नार्मल या गुनगुने पानी से लेना चाहिए. खाना खाने के पहले या बाद डॉक्टर की सलाह से लेना चाहिए. नमक की मात्रा होने से हाई BP वाले सावधानी से यूज़ करें, प्रेगनेंसी में इसका इस्तेमाल न करें. इसे आयुर्वेदिक मेडिकल से या फिर निचे दिए लिंक से घर बैठे ऑनलाइन ख़रीद सकते हैं- 


(लखैपुर वेबसाइट के ऍनड्राइड ऐप प्ले स्टोर से डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें)
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...
Loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin