भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

08 April 2018

Mustakarishta Benefits, Use & Ingredients | मुस्तकारिष्ट के फ़ायदे


मुस्तकारिष्ट क्लासिकल आयुर्वेदिक मेडिसिन है जो आँव को दूर करता है. भूख की कमी, अपच, पाचन विकार, दस्त, डायरिया और IBS जैसी बीमारियों में असरदार है, तो आईये जानते हैं मुस्तकारिष्ट का कम्पोजीशन, फ़ायदे और इस्तेमाल की पूरी डिटेल - 

मुस्तकारिष्ट के घटक या कम्पोजीशन-

जैसा कि इसके नाम से ही पता चलता है इसका मुख्य घटक या मेन इनग्रीडेंट मुस्तक या मोथा नाम की जड़ी होती है. इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसमें कई तरह की जड़ी-बूटियाँ मिली होती हैं जैसे - 

मुस्तक - 5 किलो, गुड़- ढाई किलो(2.5kg), धातकी- 600 ग्राम, अजवाइन, सोंठ, काली मिर्च, लौंग, मेथी, चित्रकमूल और जीरा प्रत्येक 50-50 ग्राम का मिश्रण होता है. 

मुस्तकारिष्ट निर्माण विधि -

आयुर्वेदिक प्रोसेस आसव-अरिष्ट निर्माण विधि से इसे बनाया जाता है. बनाने का तारिका यह है कि सबसे पहले मुस्ताक या मोथा का मोटा चूर्ण कर 40 लीटर पानी में उबालें, जब 10 लीटर पानी बचे तो ठण्डा होने पर छान ले. अब इसमें गुड़ और दूसरी जड़ी-बूटियों का मोटा चूर्ण मिक्स कर मिट्टी के चिकने पात्र में बर्तन का मुंह बंद कर 30 दिनों के लिए धुप में रख देना चाहिए. तीस दिनों बाद अच्छी तरह से फ़िल्टर कर कांच की बोतल में भर कर रख लें, यही मुस्तकारिष्ट है. 

मुस्तकारिष्ट के औषधिय गुण -

आयुर्वेदानुसार यह कफ़ दोष को कम करता है और पित्त दोष को बैलेंस करता है. यह आम पाचक, अग्निवर्धक या भूख बढ़ाने वाला, Digestive, दस्त रोकने वाला या एंटी डायरियल और Astringent जैसे गुणों से भरपूर होता है. 

मुस्तकारिष्ट के फ़ायदे - 


  • आँव आना, बूख की कमी, दस्त, अपच होना जैसी प्रॉब्लम में इसका इस्तेमाल किया जाता है. 



  • आमपाचक होने से यह पेट में आँव या म्यूकस का बनना दूर करता है. 



  • अपच होना, तेज़ दस्त और डायरिया में भी यह असरदार है. 



  • पेट, आंत और लीवर पर इसका सबसे ज़्यादा असर होता है और शरीर के मेटाबोलिज्म को सही करता है. 



  • IBS या Irritable Bowel Syndrome में जब पतले दस्त आते हों और हाजमा ठीक नहीं हो तो इसके इस्तेमाल से काफ़ी फ़ायदा होता है. 


मुस्तकारिष्ट की मात्रा और सेवन विधि - 

15 से 30 ML तक सुबह शाम खाना के बाद बराबर मात्रा में पानी मिक्स कर लेना चाहिए. बच्चों को कम डोज़ में देना चाहिए. यह ऑलमोस्ट सेफ़ दवा है, लॉन्ग टाइम तक यूज़ कर सकते हैं. सिर्फ प्रेगनेंसी में इसका इस्तेमाल न करें. ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलायें इसका इस्तेमाल कर सकती हैं.   डाबर बैद्यनाथ जैसी कंपनियों का यह मिल जाता है, बैद्यनाथ के 450 ML के पैक की क़ीमत 127 रुपया है, इसे ऑनलाइन भी ख़रीद सकते हैं. 

इसे भी जानिए -







हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin