भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

21 January 2019

Dirghayu Churna | दिर्घायु चूर्ण के चमत्कारी फ़ायदे | वज़न बढ़ाये, पॉवर बढ़ाये, फिट रखे


दिर्घायु चूर्ण विशुद्ध आयुर्वेदिक औषधि है जो दुबले पतले लोगों का वज़न बढ़ाती है, पढने वाले बच्चों की बुद्धि और मेमोरी पॉवर बढ़ाती है, नव युवको का पॉवर-स्टैमिना बढ़ाती है, महिलाओं को फिट रखती है और बुजुर्गों को स्वस्थ रखने में मदद करती है. तो आईये आज के इस विडियो में दिर्घायु चूर्ण के बारे में विस्तार से जानते हैं- 

दिर्घायु चूर्ण जैसा कि इसका नाम है, यह सिर्फ एक चूर्ण ही नहीं बल्कि रसायन है. यह लम्बा जीवन प्रदान करता है मनुष्य को स्वस्थ रखते हुवे. स्वस्थ रहने और लम्बा जीवन जीने के लिए जिन आवश्यक पोषक तत्वों की बॉडी को ज़रूरत होती है वह सारे पोषक तत्व या विटामिन्स और मिनरल्स से यह भरपूर है. 

दिर्घायु चूर्ण के घटक या कम्पोजीशन - यह पूरी तरह से नेचुरल और Vegetarian प्रोडक्ट है जो जड़ी-बूटियों, खनिज और ज़रूरी पोषक तत्वों के मिश्रण से बनाया जाता है. 

इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसके प्रत्येक 10 ग्राम में होता है - 

शुद्ध घृतकुमारी एक्सट्रेक्ट- 1000 mg
शुद्ध देसी गेहूं अंकुरित - 1000 mg
सोयाबीन अंकुरित - 1000 mg 
साबुत उरद अंकुरित - 1000 mg
साबुत मुंग अंकुरित - 1000 mg
शुद्ध कौंच बीज- 200 mg
शुद्ध चोंटली- 200 mg
सफ़ेद मूसली- 200 mg
शतावर- 200 mg
बीजबन्द - 200 mg
उटंगन बीज- 200 mg
विधारा- 200 mg
गोखरू- 200 mg
अर्जुन- 200 mg
असगंध - 200 mg
कायफल- 100 mg
तालमखाना- 100 mg
सालम पंजा- 100 mg
पारसिक यवानी - 100 mg
माजूफल- 100 mg
मोचरस- 100 mg
जायफल - 20 mg
अकरकरा - 20 mg
लौंग- 20 mg
दालचीनी - 20 mg
शुद्ध शिलाजीत - 20 mg
अभ्रक भस्म शतपुटी - 20 mg
शुद्ध मिश्री - Q.S 
के मिश्रण से  विशेष विधि(सभी अन्न द्रव्यों को घृतकुमारी के एक्सट्रेक्ट में 24 घंटे भिगोने के बाद, 48 घन्टे में अंकुरित कर छायाशुष्क होने के बाद, इमामदस्ते में कूटकर, देशी गाय के घी में भुनकर) से बनाया जाता है. इसमें शुद्ध देसी गाय के घी की भी थोड़ी मात्रा होती है. 

दिर्घायु चूर्ण के गुण - 

यह उत्तम पौष्टिक, दुबले-पतले लोगों का वज़न बढ़ाने वाला, शक्ति देने वाला, नवयुवकों में बल-वीर्य, पॉवर-स्टैमिना बढ़ाने वाला, चिंता-तनाव, स्ट्रेस दूर करने वाला, दिल-दिमाग को ताक़त देने वाला, मेमोरी पॉवर बढ़ाने वाला, लिवर-स्प्लीन, किडनी को शक्ति देने वाला, पाचन शक्ति ठीक करने वाला, एंटी ऑक्सीडेंट और टॉनिक जैसे गुणों से भरपूर होता है. 

दिर्घायु चूर्ण के फ़ायदे- 

इसके फ़ायदे की बात करें तो यह बच्चे-बड़े, बूढ़े, नवयुवक, महिला-पुरुष सभी के लिए लाभकारी है.

अगर आप दुबले-पतले हैं और तरह-तरह की दवा की खाने के बाद भी आप का वेट गेन नहीं होता और हेल्थ इम्प्रूव नहीं होता इसका सेवन करें. इसके सेवन से दुबले-पतले लोगों का वज़न एक महिना में 3-4 किलो तक बढ़ जाता है. लड़का-लड़की सभी इसका सेवन कर सकते हैं. याद रखें, मोटे लोगों का वज़न इसके सेवन से नहीं बढ़ता है. 

अगर आप नवयुवक हैं, पौरुष शक्ति की कमी है, शीघ्रपतन, इरेक्टाइल डिसफंक्शन, धात की समस्या, शुक्राणुओं की कमी जैसी कोई भी यौन समस्या है तो इसका सेवन अवश्य करें. यह आपकी हर तरह की मर्दाना कमज़ोरी दूर कर शुक्राणुहीनता को नष्ट करता है. 

इसी तरह महिला बाँझपन को भी दूर कर संतान प्राप्ति में मदद करता है. महिलाओं की पीरियड रिलेटेड प्रॉब्लम को दूर कर कंसीव करने के हेल्प करता है. कमर दर्द, धातरोग या ल्यूकोरिया को दूर करता है और महिला के स्वस्थ और सुन्दरता को बढ़ाता है. 

यदि आप किशोर हैं या आपकी उम्र दस-बारह साल से अधीक है और आप स्टूडेंट हैं तो भी इसका सेवन करना चाहिए. इसके इस्तेमाल से मेमोरी पॉवर और सिखने की क्षमता बढ़ती है और आप हर एग्जाम में फर्स्ट आ सकते हैं क्यूंकि इसमें मिलाई गयी जड़ी-बूटियां दिमाग तेज़ करती है, सिखने की क्षमता, मेमोरी पॉवर और बुद्धि बढ़ाती है. 

अगर आप की उम्र ज़्यादा है 40+ क्रॉस कर चुके हैं या फिर आप वृद्ध व्यक्ति के श्रेणी में आते हैं तो भी इसका सेवन करें. इसके इस्तेमाल से बुढ़ापे के रोग आपके पास नहीं आएंगे जैसे जोड़ों का दर्द, चलने-फिरने  में तकलीफ होना, भूख की कमी, कमजोरी, साँस की समस्या या अस्थमा और बुढ़ापे के दुसरे रोग. इसका इस्तेमाल करने से आपको बुढ़ापे में हाँथ में कभी लाठी या स्टिक आने नहीं देगा. 

तो दोस्तों, बताई गयी किसी भी तरह की प्रॉब्लम है तो दिर्घायु चूर्ण का इस्तेमाल शुरू कीजिये स्वस्थ जीवन का आनन्द लीजिये. दिर्घायु चूर्ण परीक्षित और अनुभूत आयुर्वेदिक योग है, इसके सेवन से किसी तरह का कोई साइड इफ़ेक्ट या नुकसान नहीं होता है. 

दिर्घायु चूर्ण की मात्रा और सेवन विधि - 

3 से 6 ग्राम तक सुबह-शाम दूध से लेना चाहिए. यह व्यस्क व्यक्ति की मात्रा है. दस साल से बड़े बच्चों को दो ग्राम तक सुबह-शाम दूध के साथ लेना चाहिए. इसे भोजन के आधे घन्टे बाद ही लेना चाहिए. चूँकि इसमें शुद्ध मिश्री की मात्रा है तो जिनका शुगर लेवल बढ़ा हो, यूज़ न करें. शुगर रोगी शुगर फ्री वाला भी आर्डर कर सकते हैं.

इसके 100 ग्राम के पैक की कीमत है सिर्फ़ 300 रुपया. ऑफर के साथ इसका 100 ग्राम का दो पैक दिया जा रहा है सिर्फ़ 500 रुपया में, सिर्फ़ आप लोगों को जो हमारे चैनल के विवर्स और सब्सक्राइबर हैं. इसे आप ऑनलाइन ख़रीद सकते हैं अमेज़न से निचे दिए लिंक से - 









हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin