भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

14 January 2019

Keshrog Nashak Yog for All Hair Problems | केशरोग नाशक योग(सेट) केश रोगों की सम्पूर्ण चिकित्सा


बालों की हर तरह की प्रॉब्लम का सबसे बेस्ट उपाय आपके लिए लेकर आया हूँ जिसका नाम है 'केशरोग नाशक योग' यह एक तरह की कम्पलीट किट है जिसमे लगाने के लिए तेल, खाने का एक चूर्ण और एक कैप्सूल है. बालों का गिरना, झड़ना या टूटना, बालों का समय से पहले सफ़ेद होना, दाढ़ी मुछों का समय से पहले सफ़ेद होना, Dandruff या रुसी होना, बालों में खुजली होना जैसी बालों की हर तरह की प्रॉब्लम के लिए यह एक बेजोड़ योग है जो महिला-पुरुष सभी के लिए समान रूपसे लाभकारी है. तो आईये इसके बारे में विस्तार से बात करता हूँ - 

दोस्तों, आज के समय में बालों की समस्या से बहुत लोग परेशान हैं. कम उम्र में ही बालों का सफ़ेद होना बहुत ही कॉमन प्रॉब्लम हो गयी है. तरह-तरह के ऐड देखकर लोग तरह-तरह का हेयर आयल लोग ट्राई करते रहते हैं और फ़ायदा शायेद ही होता है. 
आपमें से कई लोग मुझसे अक्सर पूछते रहते हैं बालों के लिए बेस्ट उपचार के बारे में. और मैंने कहा भी था कि आपके लिए बेस्ट दवाई बताऊंगा. 

बालों की हर तरह की प्रॉब्लम के लिए दशकों से जो औषधि हम अपने रोगियों को प्रयोग कराते हैं उसी को आपके सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ जिसे 'केशरोग नाशक योग' नाम दिया गया है. इसे बालों को पोषण देनी वाली आयुर्वेद की जानी-मानी जड़ी-बूटियों के मिश्रण से बनाया गया है. इस सेट में तीन तरह की औषधि है- तेल, चूर्ण और कैप्सूल 

सबसे पहले जानते हैं 'केशरोग नाशक तेल' के बारे में - यह विशुद्ध आयुर्वेदिक प्रोसेस 'क्षीरपाक विधि' से बनाया गया तेल  है जिसमे असली ताज़े कृष्ण भृंगराज के अलावा 15 तरह की दूसरी बेहतरीन जड़ी-बूटियों का एक्सट्रेक्ट है जैसे - गैरिक, अनंतमूल, हरिद्रा, दारू हल्दी, प्रियंगु, नागकेशर, मुलेठी, कमल पुष्प, पद्माख, लोध्र, चन्दन, खरेंटी इत्यादि .

 बालों के अलावा दाढ़ी-मूँछ में भी लगा सकते हैं. 

'केशरोग नाशक चूर्ण'- के घटकों की बात करें तो इसे छाया में सुखा हुवा काला भांगरा, जंगली आँवला, तिल और मिश्री मिला होता है. 

'केशरोग नाशक कैप्सूल'- यह कैप्सूल 'केशरोग नाशक योग' का महत्वपूर्ण अंग है इसके कम्पोजीशन की बात करें तो इसे स्वर्णमाक्षिक भस्म, आँवला एक्सट्रेक्ट, हरीतकी एक्सट्रेक्ट, यष्टिमधु घनसत्व और भृंगराज घनसत्व के मिश्रण से बनाया गया है. यह अपने-आप में बेजोड़ योग है जो बालों को उचित पोषण प्रदान करता है. नए बालों को उगाता है, बालों की जड़ों को मजबूत कर बालों को घना, काला और लम्बा बनाता है. 

'केशरोग नाशक योग' के फ़ायदे- 

अगर आपको किसी भी तरह की प्रॉब्लम है 'केशरोग नाशक योग' के तीनों चीजों का इस्तेमाल कीजिये और चमत्कार देखिये.

बालों का गिरना, टूटना, समय से पहले सफ़ेद होना, रुसी होना, बालों का रूखापन, गंजापन जैसी कोई भी समस्या क्यूँ न हो इसके इस्तेमाल से निश्चित रूप से लाभ होता है. 

अगर आप पुरुष हैं और समय से पहले दाढ़ी-मूँछ के बाल सफ़ेद हो रहे हैं तो दाढ़ी-मूँछ में इस तेल को लगायें इसके चूर्ण और कैप्सूल को खाएं.

'केशरोग नाशक योग' 100% आयुर्वेदिक योग है जिस से आपको 100% फ़ायदा होगा यह मेरी गारंटी है. विश्वास के साथ प्रयोग कीजिये पहले महीने से ही आपको फ़ायदा दिखेगा. 

'केशरोग नाशक योग' की प्रयोग विधि -

तेल को बालों की जड़ों में और बालों में अच्छी तरह से रोज़ लगाया करें. चूर्ण को एक स्पून(लगभग 3 ग्राम तक) सुबह-शाम नाश्ते-खाने के बाद नार्मल पानी से लेना है. इसी तरह से कैप्सूल को भी एक-एक सुबह-शाम नार्मल पानी से निगल लेना है. यह व्यस्क व्यक्ति की मात्रा है. अगर आपकी उम्र 18 साल से कम है तो चूर्ण को आधा स्पून सुबह-शाम लें. और कैप्सूल रोज़ एक बार. तेल को आवशयकतानुसार लगाया करें. 

अब सवाल यह उठता है कि इसे कितना समय तक यूज़ करना है? 

जहाँ तक टाइम की बात है तो आपकी प्रॉब्लम जितना पुरानी होगी, उतना ज़्यादा टाइम लगेगा. इसे कम से कम लगातार 3 से 6 महिना तक यूज़ करना चाहिए. इसके एक महीने के पुरे सेट की क़ीमत है सिर्फ 1650 रूपये. इसे ऑनलाइन ख़रीद सकते हैं निचे दिए गए  लिंक से -



साइड इफेक्ट्स - वैसे तो यह पूरी तरह से सुरक्षित औषधि है इसके सेवन से किसी तरह का कोई साइड इफ़ेक्ट या नुकसान नहीं होता है. 'केशरोग नाशक योग' के चूर्ण में मिश्री की थोड़ी मात्रा होती है तो शुगर के रोगी सावधानी से यूज़ करें या फिर कम मात्रा में यूज़ करें. और जिनको बार-बार सर्दी-ज़ुकाम हो जाता है या फिर सर्द मिजाज़ वाले लोग चूर्ण को कम मात्रा में यूज़ करें. 



हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin