भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

24 May 2019

प्रदरान्तक कैप्सूल/टेबलेट ल्यूकोरिया/सफ़ेद पानी की कारगर दवा | Leucorrhea Ayurvedic Medicines


महिलाओं की बीमारी ल्यूकोरिया को लोग कई तरह के नामों से जानते हैं जैसे सफ़ेद पानी आना, धात गिरना, श्वेत प्रदर/रक्त प्रदर इत्यादि. यह ऐसी बीमारी है जो शरीर में घुन की तरह लग जाता है जिस से महिलाओं का स्वास्थ ख़राब हो जाता है. इस बीमारी को जड़ से दूर करने के लिए कम से तीन तरह की दवाओं को साथ लेना चाहिए जिसे आज बता रहा हूँ – प्रदरान्तक कैप्सूल, प्रदरान्तक टेबलेट और पुष्यानुग चूर्ण. तो आईये इसके बारे में विस्तार से जानते हैं – 

सबसे पहेल जानते हैं प्रदरान्तक कैप्सूल के बारे में. जैसा कि इसका नाम है प्रदर यानि ल्यूकोरिया का अंत करने वाला

प्रदरान्तक कैप्सूल का कम्पोजीशन – 

अशोक घनसत्व, उदम्बर घनसत्व, लोध्र घनसत्व, चौलाई घनसत्व, खरैटी घनसत्व, संगजराहत भस्म और स्फटिक भस्म जैसी बेजोड़ और असरदार औषधियों के मिश्रण से इसे  बनाया गया है. 

अब जानते हैं प्रदरान्तक टेबलेट के बारे में –

प्रदरान्तक टेबलेट के घटक या कम्पोजीशन –

इसके घटक भी ऑलमोस्ट सेम हैं प्रदरान्तक कैप्सूल जैसे. ल्यूकोरिया के लिए हिमालया लुकोल के बारे में मैंने बताया है जिस से अनेकों लोगों को फ़ायदा हुआ है, पुराने ल्यूकोरिया में अगर उस से फ़ायदा न हुआ हो तो यहाँ बताई दवाओं का प्रयोग करना चाहिए.

पुष्यानुग चूर्ण – 

यह एक पोपुलर क्लासिक मेडिसिन है जिसकी डिटेल यहाँ पढ़ सकते हैं. 

आईये अब जानते हैं इन औषधियों के फ़ायदे- 

सफ़ेद पानी या ल्यूकोरिया और लाल पानी में यह विशेष उपयोगी है. ल्यूकोरिया की वजह से होने वाले कमर दर्द, पीठ दर्द, हाथ-पैरों की जलन, लगातार रहने वाला सर दर्द, कमज़ोरी, खून की कमी, भूख की कमी इत्यादि रोग दूर होते हैं. 

इन दवाओं के सेवन से ल्यूकोरिया की बीमारी दूर होकर महिलाओं का स्वास्थ ठीक हो जाता है. 

नयी पुरानी हर तरह की बीमारी में इन दवाओं को साथ में लेना चाहिए.

अब जानते हैं इसकी मात्रा और प्रयोग विधि – 

प्रदरान्तक कैप्सूल एक-एक सुबह शाम पानी से. प्रदरान्तक टेबलेट एक-एक सुबह-शाम पानी से. पुष्यानुग चूर्ण एक स्पून शहद या चावल के धोवन से लेना चाहिए. भोजन के बाद चार स्पून पत्रांगासव भी लिया जाये तो अति उत्तम. 

ल्यूकोरिया के लिए तरह-तरह की दवा खाकर थक गए हों तो भी इन दवाओं के इस्तेमाल से बीमारी दूर हो जाती है. 

इन औषधियों का सेवन करते हुवे तेज़ मिर्च-मसाला, खटाई और गरिष्ठ भोजन का त्याग करना चाहिए. 

प्रदरान्तक कैप्सूल, प्रदरान्तक टेबलेट और पुष्यानुग चूर्ण तीनों दवा ऑनलाइन अवेलेबल है उचित मूल्य में हमारे स्टोर lakhaipur.in पर जिसका लिंक दिया गया है. 

प्रदरान्तक कैप्सूल(180 rupya)

प्रदरान्तक टेबलेट(160 सिर्फ़ 160 रुपया)

पुष्यानुग चूर्ण 100 ग्राम(सिर्फ़ 146 रुपया)


हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 comments:

Post a Comment

 
Blog Widget by LinkWithin