भारत की सर्वश्रेष्ठ आयुर्वेदिक हिन्दी वेबसाइट लखैपुर डॉट कॉम पर आपका स्वागत है

24 फ़रवरी 2017

रजः प्रवर्तनी वटी, रुके माहवारी या पीरियड की आयुर्वेदिक दवा | Rajah Pravartini Vati Benefits


रजः प्रवर्तनी वटी एक आयुर्वेदिक दवा है जिसके इस्तेमाल से महिलाओं के पीरियड की सारी प्रॉब्लम दूर होती है, पीरियड नहीं होना, पीरियड कम होना, पीरियड के दौरान दर्द होना जैसे प्रॉब्लम दूर होते हैं

भैषज्य रत्नावली का यह योग बड़ा ही असरदार है और स्त्री रोगों में इसका प्रयोग सदियों से किया जा रहा है 

इसे मुसब्बर, शुद्ध हींग, शुद्ध टंकण और शुद्ध कसीस सभी बराबर मात्रा में लेकर घृत कुमारी के रस की भावना देकर बनाया जाता है 

यह क्लासिकल शास्त्रीय फ़ॉर्मूला है और इसी फार्मूले की यह दवा बैद्यनाथ, डाबर जैसी कंपनियों की मिलती है 

जबकि दिव्य रजः प्रवर्तनी वटी में सोया बीज, गाजर बीज, उलटकम्बल और बंस भी मिला होता है 

आईये अब जानते हैं रजः प्रवर्तनी वटी  के फ़ायदे-

यह शरीर से वात दोष को दूर करती है, गर्भाशय में ब्लड फ्लो को बढाती है जिस से रुका पीरियड चालू हो जाता है 

पीरियड नहीं होने की प्रॉब्लम में इसे अशोकारिष्ट या कुमार्यासव के साथ लेना चाहिए 

रजः प्रवर्तनी वटी के इस्तेमाल से पीरियड न होना, कम होना, देर से होना या दर्द के साथ होना जैसी प्रॉब्लम दूर होती है 

कुल मिलाकर देखा जाये तो पीरियड रिलेटेड प्रॉब्लम के लिए इस से बढ़िया कोई दवा नहीं है 

रजः प्रवर्तनी वटी की मात्रा और सेवन विधि- 



1 से 2 गोली(250 से 500 mg) तक दिन में दो बार भोजन के एक घंटा के बाद लेना चाहिए 

डॉक्टर की सलाह से ही इसका डोज़ तय करना चाहिए, ज्यादा डोज़ होने पर हैवी ब्लीडिंग हो सकती है 

कोमल प्रकृति की महिलाओं को इसकी जगह पर 'कन्यालोहादी वटी' का इस्तेमाल करना चाहिए. 'कन्यालोहादी वटी' की जानकारी आलरेडी हमारे चैनल पर मौजूद है. इस घर बैठे ऑनलाइन ख़रीदें निचे दिए लिंक से -

डाबर रजः प्रवर्तिनी वटी, झंडू रजः प्रवर्तिनी वटी, पतंजलि रजः प्रवर्तिनी वटी



loading...
हमारे विशेषज्ञ आयुर्वेदिक डॉक्टर्स की टीम की सलाह पाने के लिए यहाँ क्लिक करें
Share This Info इस जानकारी को शेयर कीजिए
loading...

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

 
Blog Widget by LinkWithin